Kaal Bhairav Ashtami 2021: मानव जाति के कल्याण के लिए भगवान शिव विभिन्न अवतारों में प्रकट हुए है। ऐसा ही महादेव का एक रूप काल भैरव है। शिवजी का यह स्वरूप सबसे उग्र और घातक माना गया है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार भगवान शिव ने अष्टमी तिथि को काल भैरव के रूप में कृष्ण पक्ष के मार्गशीष महीने और कार्तिक (अमावसंत कैलेंडर के अनुसार) में जन्म लिया है। आइए जानते हैं कालभैरव की तिथि, महत्व और पूजा विधि के बारे में।

काल भैरव तिथि और मुहूर्त

काल भैरव जयंती 27 नवंबर को मनाई जाएगी। अष्टमी का शुभ मुहूर्त सुबह 5.43 बजे से शुरू होकर 28 नवंबर को सुबह 6 बजे समाप्त होगी।

काल भैरव जयंती का महत्व

भैरव शब्द भीरु (अर्थ - भय) से बना है। महादेव के इस अवतार को दंडपाणि (अर्थ - दण्ड देने वाला) के नाम से भी जाना जाता है। काल भैरव रूप से जुड़ी कथा एक आवश्यक जीवन पाठ प्रदान करती है। कथा के अनुसार ब्रह्मा को अहंकार हो गया और उन्होंने ब्रह्मांड के निर्माता होने पर गर्व महसूस किया। इसलिए काल भैरव ने ब्रह्मा के पांच सिरों में से एक को अपने त्रिशूल (त्रिशूल) से काट दिया ताकि उसे दंडित किया जा सके। ऐसा ब्रह्मा को याद दिलाने के लिए किया गया था कि अभिमान और अहंकार पतन की ओर ले जाते हैं। ऐसा कहा जाता है कि काल भैरव चार हाथ और दांत बाहर की ओर निकले हुए प्रकट हुए थे। उन्होंने एक दाहिने हाथ में तलवार (तलवार) या फंदा (पासा) और दूसरे में खोपड़ी है। इसके अलावा, उन्होंने दो बाएं हाथों में एक डमरू और एक त्रिशूल धारण किया। काल भैरव का वाहन एक कुत्ता है।

काल भैरव पूजा विधि

काल भैरव अष्टमी को सुबह जल्दी उठकर स्नान करें और व्रत का संकल्प लें। किसी मंदिर में जाकर भगवान काल भैरव, शिवजी और मां दुर्गा की पूजा करें। भगवान भैरव की पूजा रात्रि में करने का विधान है। इस लिए रात्र में 12 बजे के करीब धूप, दीपक, काले तिल, उड़द और सरसों का तेल भगवान को अर्पित करें। उसके बाद आरती करें और भोग लगाएं। प्रसाद चढ़ाने के बाद भैरव चालीसा का पाठ करें। वहीं काल भैरव अष्टमी के दिन काले कुत्ते को मीठी रोटियां खिलाएं। इससे भगवान की कृपा बरसेगी।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Shailendra Kumar