Kajari Teej 2022: हिंदू पंचांग के अनुसार सावन माह सावन पूर्णिमा के दिन यानी कि रक्षाबंधन के साथ ही समाप्त हो चुका है। 12 अगस्त से भाद्रपद माह शुरु हो चुका है। भाद्रपद मास की प्रतिपदा तिथि 12 अगस्त को सुबह 07:05 से शुरू हो गई है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार यह छटवां महीना है। इस भाद्रपद माह में महिलाओं द्वारा रखा जाने वाला महत्वपूर्ण व्रत कजरी तीज भी आती है। पंचांग के अनुसार हर साल तीज का व्रत भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की तिथि को मनाया जाता है। इस बार यह व्रत 14 अगस्त यानी कि रविवार को आने वाला है। कजरी तीज के दिन सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी आयु और उनके सुखमय जीवन के लिए व्रत रखती हैं। वहीं कुंवारी कन्याएं अच्छा वर पाने के लिए यह व्रत करती हैं।

कजरी तीज शुभ मुहूर्त

हिंदू पंचांग के अनुसार भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की तिथि 13 अगस्त शनिवार को देर रात 12:53 से शुरू हो रही है। यह तृतीया तिथि 14 अगस्त रविवार को 10:35 पर समाप्त होगी। व्रत में उदया तिथि की गणना के अनुसार कजरी तीज का व्रत 14 अगस्त यानी कि रविवार को रखा जाएगा।

कजरी तीज शुभ योग

अभिजीत मुहूर्त - 14 अगस्त 2022, दोपहर 12:08 से दोपहर 12:59 तक

सर्वार्थ सिद्धि योग - 14 अगस्त 2022, रात 09:56 से 15 अगस्त 2022 सुबह 06:09 तक

विजय मुहूर्त - 14 अगस्त 2022 को दोपहर 02:41 से दोपहर 03:33 तक

धार्मिक ग्रंथों के अनुसार कजरी तीज का व्रत अभिजीत मुहूर्त, सर्वार्थ सिद्धि योग और विजय मुहूर्त में अत्यंत शुभ फलदायी होगा।

कजरी तीज व्रत पूजन सामग्री

पीला वस्त्र, कच्चा सूत, नए वस्त्र

केला के पत्ते, कलश, अक्षत या चावल

गाय का दूध, पंचामृत, गंगाजल, दही, मिश्री, शहद

जनेऊ, जटा, नारियल, सुपारी

दुर्वा, घास, घी, कपूर

बेलपत्र, भांग, धतूरा, शमी के पत्ते

अबीर गुलाल, श्रीफल, चंदन

Posted By: Sandeep Chourey

  • Font Size
  • Close