Kartik Purnima 2022: कार्तिक पूर्णिमा कल यानी 8 नवंबर को मनाई जाने वाली है। शास्त्रों के अनुसार कार्तिक पूर्णिमा का दिन काफी महत्वपूर्ण बताया गया है। यह दिन देवी-देवताओं को खुश करने का दिन होता है। माना जाता है कि यदि कुछ विशेष उपाय इस दिन कर लिए जाए तो घर में हमेशा सुख-समृद्धि बनी रहती है। साथ ही जीवन में कभी भी आर्थिक नुकसान नहीं होता है। कार्तिक पूर्णिमा के दिन प्रदोष काल में दीपदान करने का काफी महत्व है। इस दिन ब्रह्म मुहूर्त में किसी नदी या तालाब में दीपक प्रज्जवलित करना चाहिए। इस दिन दीपदान घर से खुशहाली आती है।

गंगा स्नान का महत्व

कार्तिक मास में भगवान विष्णु जल में वास करते हैं। पद्म पुराण में यह बताया गया है कि भगवान विष्णु मत्स्य रूप में पवित्र नदियों और जल स्त्रोत में वास करते हैं। ऐसे में नदी में स्नान करने से व्यक्ति को वैकुंठ की प्राप्ति होती है। इससे मानसिक और शारीरिक समस्याओं से मुक्ति मिलती है। बता दें कि कार्तिक पूर्णिमा के दिन भगवान शिव जी ने त्रिपुरासुर नाम के राक्षस का वध कर संहार किया था। माना जाता है कि इस दिन पवित्र नदी में स्नान-दान करने से शुभ फल प्राप्त होता है। इस दिन गंगा नदी में स्नान करने से पुण्य मिलता है।

कार्तिक पूर्णिमा शुभ मुहूर्त

पूर्णिमा तिथि 07 नवंबर 2022 को शाम 04 बजकर 15 मिनट से शुरू होगी। जो कि 08 नवंबर को शाम 04 बजकर 31 मिनट पर समाप्त होगी। पूर्णिमा तिथि के दिन स्नान का शुभ मुहूर्त शाम 04 बजकर 31 मिनट तक है। दान करने का शुभ समय 08 नवंबर को सूर्यास्त से पहले तक है। उदया तिथि के अनुसार इस साल कार्तिक पूर्णिमा 08 अक्टूबर को मनाई जाएगी।

Chandra Grahan 2022: अगले तीन महीने तक दिखेगा इस चंद्रग्रहण का असर, इन राशियों पर होगा सबसे ज्यादा प्रभाव

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Ekta Sharma

  • Font Size
  • Close