kharmas 2019: खरमास को लेकर कुछ खास सावधानियां बरतने से इसके अशुभ फल में कमी आ जाती है। खरमास के दौरान मान्यता है कि मांगलिक कार्य वर्जित रहते हैं, क्योंकि इस समय शुभ कार्य करने से उसके शुभफल में कमी आती है और किए गए कार्य के उद्देश पूरे नहीं होते हैं। इसलिए खरमास को मलमास भी कहा जाता है। इस मास में सूर्य के तेज में यानी गर्मी में कमी आती है, क्योंकि दो गधों के द्वारा सूर्य के रथ को खींचे जाने की वजह से रथ मंद गति से आदगे बढ़ता है। इस वजह से सूर्य की ऊर्जा में कमी आ जाती है। इस मास को मलीन माना जाता है इसलिए खरमास को मलमास भी कहा जाता है।

मृतात्मा को नहीं मिलता है स्वर्ग

पौराणिक ग्रंथों मे कहा गया है कि खरमास में जिस व्यक्ति की मृत्यु होती है, उसको स्वर्ग की प्राप्ति नहीं होती है और वह नरक में स्थान पाता है। खरमास में देह त्याग से मोक्ष की प्राप्ति नहीं होती है इस बात की पुष्टि महाभारत के इस प्रसंग से होती है। युद्ध के दौरान जब भीष्म घायल होकर शरशैय्या पर लेटे रहते हैं, तो वह कहते हैं में उस वक्त अपने प्राणों का त्याग करूंगा जब सूर्य मकर राशि में प्रवेश करेगा। मकर संक्रांति के दिन पितामह भीष्म अपने ईच्छा-मृत्यु के वरदान का उपयोग कर देह त्याग देते हैं।

खरमास में न करें यह काम

शास्त्रों के अनुसार खर मास में मांगलिक कार्य वर्जित रहते हैं। धनु संक्रांति से लेकर मकर संक्रांति तक के समय को खरमास कहा जाता है और इस दौरान विवाह, सगाई, मुंडन, जनेऊ, गृह प्रवेश, गृह निर्माण जैसे शुभ कार्य नहीं किए जाते हैं। इस दौरान निर्माण से संबंधित सामग्री भी नहीं खरीदना चाहिए।

खर मास में करे ये काम

खर मास में देव आराधना का श्रेष्ठ फल प्राप्त होता है। मल मास में श्रीहरी की उपासना के साथ धार्मिक स्थल पर पवित्र नदी, सरोवर या कुंड में स्नान का भी बहुत महत्व है। खर मास की एकादशी तिथि पर भगवान विष्णु की उपासना कर उनको तुलसीदल मिश्रित खीर का भोग लगाया जाता है। मल मास में प्रतिदिन ब्रह्म मुहूर्त में उठकर स्नान आदि से निवृत्त होकर भगवान विष्णु का केसर युक्त दूध से अभिषेक करें और तुलसी की माला से श्रीहरी के मंत्र 'ओम नमो भगवते वासुदेवाय नम:' का जाप करें।

इस मास में पीपल के वृक्ष की पूजा करने से भी शुभ फल प्राप्त होता है। क्योंकि पीपल के वृक्ष में साक्षात भगवान विष्णु का वास रहता है। जीवन में उन्नति के लिए खर मास की नवमी तिथि को कन्या भोजन का आयोजन करें।

Posted By: Yogendra Sharma

fantasy cricket
fantasy cricket