Kunwara Panchami 2022। इन दिनों श्राद्ध पक्ष चल रहा है, जो 25 सितंबर तक चलेगा और इस दौरान कुछ तिथियों का विशेष धार्मिक महत्व है, जिनमें से कुंवर पंचमी भी एक है। कुंवर पंचमी 2022 आज 14 सितंबर को है और धार्मिक मान्यता है कि इस दिन ऐसे परिजन का श्राद्ध किया जाता है, जिसका निधन विवाह से पहले हो गया हो। कुंवर पंचमी पर अविवाहित परिजन का तर्पण, पिंडदान किया जाता है, इसलिए इसे कुंवर पंचमी कहा जाता है।

कुंवर पंचमी तिथि का समय

हिंदू पंचांग के मुताबिक आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की पंचमी तिथि के अनुसार बुधवार 14 सितंबर को सुबह 10.25 बजे से गुरुवार 15 सितंबर को सुबह 11 बजे तक रहेगी। श्राद्ध के सही समय दोपहर 11.58 से 12.47 बजे तक कुटप होगा, इस दिन ध्रुव और हर्षण नाम के दो शुभ योग भी होंगे।

कुंवारे ब्राह्मण को कराएं भोजन

श्राद्ध में ब्रह्मण भोज का विशेष महत्व बताया गया है, यदि आप कुंवर पंचमी पर अपने परिवार के किसी अविवाहित सदस्य का तर्पण या श्राद्ध कर रहे हैं तो ध्यान रहे कि है तो अविवाहित ब्राह्मण को ही भोज कराना चाहिए। ब्राह्मण को स्वादिष्ट भोजन कराएं और उसकी पसंद के कपड़े, बर्तन, अनाज का दान करें, साथ ही कुछ दक्षिणा भी देना चाहिए। आखिर में चरण स्पर्श के बाद आशीर्वाद लेना चाहिए, ऐसा करने से पितरों की कृपा बनी रहती है।

कुंवर पंचमी पर इन बातों की रखें सावधानी


- ब्राह्मण को शुद्ध भोजन कराना चाहिए। खीर बनाने के लिए गाय के दूध से उपयोग करना चाहिए।

- ब्राह्मण को जो कुछ भी दान करें, वह बिल्कुल नया होना चाहिए। उपयोग नहीं किया।

- श्राद्ध के लिए जो खाना बनाया जा रहा है उसमें लहसुन-प्याज और गरम मसाला आदि का प्रयोग नहीं करना चाहिए।

- ब्राह्मण भोज कराने से पहले गाय, कौआ और कुत्ते के लिए भी एक-एक थाली लगाना चाहिए।

- श्राद्ध के दिन यदि कोई आपके घर आता है तो उसे बगैर खाना खिलाए या दान दिए बगैर जाने नहीं देना चाहिए।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Sandeep Chourey

  • Font Size
  • Close