Mahashivratri 2020: हिंदू धर्म में महाशिवरात्रि का त्यौहार बेहद श्रध्दा और उत्साह के साथ मनाया जाता है। भगवान भोलेनाथ की भक्ति के लिए यह दिन बेहद खास माना जाता है। महाशिवरात्रि हर साल फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी पर मनाई जाती है। इस साल 21 फरवरी को यह महापर्व मनाया जाएगा। देश में भगवान शिव के कई बेहद प्रसिद्ध मंदिर हैं जिसके दर्शनों के लिए हर साल हजारों भक्त वहां पहुंचते हैं। इसमें द्वादशपीठ के मंदिर भी शामिल हैं। यहां उमड़ने वाले भक्तों की भीड़ और आस्था सैलाब ऐसा होता है जिसमें हर कण भक्तिमय हो जाता है। देश के ऐसे ही प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में जानें..

केदारनाथ, उत्तराखंड

केदारनाथ उन चार मुख्य शहरों में शामिल है जिसे छोटा चारधाम कहा जाता है। यह उत्तरांचल राज्य के उत्तरी छोर पर हिमालय के इलाके में बसा हुआ है। भगवान केदारनाथ का मंदिर अप्रैल से नवंबर के महीने के बीच खुला रहता है। ठंड के दिनों में यहां भारी बर्फबारी होती है। यह मंदिर समुद्र के स्तर से 3583 मीटर ऊंचाई पर स्थित है। यहां सड़क के माध्यम से सीधे नहीं पहुंचा जा सकता है। इसके लिए गौरीकुंड से 14 किलोमीटर ऊंचाई की ट्रैकिंग करना पड़ती है।

लिंगराज मंदिर, भुवनेश्वर

ओडिशा के भुवनेश्वर में स्थित लिंगराज मंदिर बेहद प्राचीन मंदिर है। यह मान्यता है कि इस मंदिर को राजा जजाति केसरी द्वारा बनवाया गया था, जो सोमवंशी थे। इस मंदिर को बाद में गंगा राज्य के राजा द्वारा सुधारा गया था। यह मंदिर कम से कम 1 हजार साल पुराना है। वर्तमान मंदिर का ढांचा 11 वीं सदी में बनाया गया था।

यह मंदिर भगवान हरिहर का है जो भगवान शिव का एक रुप हैं। इस प्राचीन मंदिर का जिक्र संस्कृत में लिखे हिंदू धर्मग्रंथ ब्रह्म पुराण में भी मिलता है। यहां भुवनेश्वर एयरपोर्ट से सीधे पहुंचा जा सकता है।

भीमाशंकर, महाराष्ट्र

भगवान भीमाशंकर का मंदिर महाराष्ट्र के भोरगिरी गांव में स्थित है जो सहयाद्री घाट के क्षेत्र में स्थित है। यह 3250 फीट की ऊंचाई पर बना हुआ है। यह मंदिर नगाड़ा आर्किटेक्ट स्टाइल में बना हुआ है। यह मंदिर घने जंगलों से घिरा हुआ है। इस मंदिर में पुणे एयरपोर्ट से बस या ऑटो की मदद से पहुंचा जा सकता है।

काशी विश्वनाथ, उत्तर प्रदेश

काशी विश्वनाथ भगवान का मंदिर उत्तर प्रदेश के वाराणसी में स्थित है जो गंगा नदी के किनारे पर है। यह मंदिर सोने के डोम और नंदी बैल की मूर्ति के लिए प्रसिद्ध है। हिंदू धर्म में मान्यता है कि जो लोग काशी विश्वनाथ में अंतिम सांस लेते हैं उन्हें मोक्ष मिल जाता है। वाराणसी रेलवे स्टेशन से काशी विश्वनाथ मंदिर 5 किलोमीटर की दूरी पर है। यहां ऑटो या टैक्सी के जरिये आसानी से पहुंचा जा सकता है।

ओंकारेश्वर, मध्यप्रदेश

ओंकारेश्वर मंदिर मध्यप्रदेश में स्थित है। यह नर्मदा नदी के किनारे स्थापित है। यह मंधाता टापू पर बना है जो ओम् के आधार में बसा हुआ है। यह एमपी के प्रमुख शहर इंदौर से 80 किलोमीटर की दूरी पर बसा हुआ है। यहां बस और अन्य वाहनों से आसानी से पहुंचा जा सकता है।

सोमनाथ मंदिर, गुजरात

गुजरात में स्थित सोमनाथ मंदिर बेहद प्रसिद्ध मंदिर है। यहां हर साल हजारों श्रध्दालु पहुंचते हैं। यह मंदिर चालुक्य तरीके से बनाया गया है। इसमें चांदी के दरवाजे लगे हैं। मंदिर के बीच में शिवलिंग स्थापित है। यह मंदिर कई बार तोड़ा गया लेकिन श्रध्दालुओं की भक्ति में कोई कमी नहीं आई। यह शिवजी के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है।

रामनाथस्वामी मंदिर, तमिलनाडु

तमिलनाडु के रामेश्वर में सेथु समुद्र तट पर स्थित आइसलैंड पर रामनाथस्वामी मंदिर बना है। भगवान शिव और भगवान विष्णु के भक्तों के लिए यह बेहद पवित्र स्थल माना जाता है। हिंदुओं के 4 महत्वपूर्ण धार्मिक स्थलों में से रामेश्वरम एक माना जाता है। इस मंदिर में मदुरै एयरपोर्ट से सीधे पहुंचा जा सकता है।

Posted By: Neeraj Vyas

fantasy cricket
fantasy cricket