Mokshada Ekadashi 2022: मोक्षदा एकादशी हर साल मार्गशीर्ष मास के शुक्ल पक्ष की तिथि को मनाई जाती है। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है और व्रत रखा जाता है। मोक्षदा एकादशी का व्रत और श्रीहरि की पूजा करने से जातक को सौभाग्य की प्राप्ति होती है। साथ ही जो पूरी श्रद्धा और सच्चे मन से भगवान विष्णु की पूजा करता है। उससे देहांत के बाद स्वर्ग में जगह मिलती है। भगवान कृष्ण ने इस तिथि को दुनिया को गीता का उपदेश दिया था। इसलिए मोक्षदा एकादशी के दिन गीता जयंती भी मनाई जाती है।

पंचांग के अनुसार मार्गशीर्ष मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि का आरंभ 3 दिसंबर को प्रातः 05.39 मिनट से है। एकादशी तिथि का समापन अगले दिन 4 दिसंबर को सुबह 05.34 मिनट पर होगा। मोक्षदा एकादशी का व्रत 3 दिसंबर को रखा जाएगा। इस दिन सूर्योदय 06.58 बजे होगा।

मोक्षदा एकादशी 2022 पूजा मुहूर्त

मोक्षदा एकादशी के दिन सुबह 07.04 बजे से रवियोग शुरू हो रहा है, जो अगले दिन सुबह 06.16 बजे तक रहेगा। पूजा के लिए रवि योग शुभ है। एकादशी के दिन सुबह 09.28 बजे से दोपहर 01.27 बजे तक श्रीहरि की पूजा कर सकते हैं।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

यह भी पढ़ें-

Budh Gochar 2022: 3 दिसंबर से इन राशियों के शुरू होंगे अच्छे दिन, बुध गोचर करेगा मालामाल

Love Marriage Upay: लव मैरिज नहीं हो रही है, ये मंत्र करेगा मदद, आज से ही जप शुरू करें

Raj Yog: जीवन में सारे ऐश्वर्य देता है राजयोग, जानिए राशि के अनुसार कब मिलता है शुभ फल

Posted By: Kushagra Valuskar

  • Font Size
  • Close