Paush Maah Vrat Tyohar: मार्गशीर्ष का महीना अब समाप्ति की तरफ है और 9 दिसंबर, शुक्रवार से पौष का महीना शुरु हो जाएगा। पंचांग के अनुसार, पौष माह के कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा तिथि 8 दिसंबर को सुबह 9.37 बजे से ही लग जाएगी। लेकिन उदया तिथि के अनुसार पौष की प्रतिपदा 9 दिसंबर को है। इसलिए पौष माह की शुरुआत 9 दिसंबर से ही मानी जाएगी। पौष के महीने में सूर्यदेव धनु राशि में प्रवेश करेंगे, इसी के परिवर्तन करते ही खरमास शुरू हो जाएगा। जो कि 15 जनवरी तक लगा रहेगा। खरमास में कोई भी शुभ कार्य नहीं किए जाते हैं ना ही शादी-विवाह जैसे मांगलिक कार्य किए जाते हैं।

ज्योतिष के अनुसार हर माह की तरह ही पौष माह में भी संकष्टी चतुर्थी, प्रदोष व्रत सहित कई व्रत और त्योहार पड़ने वाले हैं। आइए जानते हैं कि पौष माह के महत्वपूर्ण व्रत त्योहार के बारे में कौन सा त्योहार कब और किस दिन पड़ेगा।

पौष माह 2022 व्रत और त्योहार

09 दिसंबर, शुक्रवार- पौष माह प्रारंभ, कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा तिथि

11 दिसंबर, रविवार- अखुरथ संकष्टी चतुर्थी

16 दिसंबर, शुक्रवार- धनु संक्रांति, खरमास प्रारंभ

19 दिसंबर, सोमवार- सफला एकादशी

21 दिसंबर, बुधवार- प्रदोष व्रत, मासिक शिवरात्रि

23 दिसंबर, शुक्रवार- पौष अमावस्या

24 दिसंबर, शनिवार, पौष माह, शुक्ल पक्ष प्रारंभ

26 दिसंबर, सोमवार- विनायक चतुर्थी

02 जनवरी, सोमवार- पौष पुत्रदा एकादशी व्रत, वैकुण्ठ एकादशी

04 जनवरी, बुधवार- बुध प्रदोष व्रत

06 जनवरी, शुक्रवार- पौष पूर्णिमा, पौष पूर्णिमा व्रत।

पौष अमावस्या का भी है अधिक महत्व

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार अमावस्या तिथि का बहुत अधिक महत्व माना जाता है। इस दिन पितरों की आत्मा की शांति के लिए धूप-ध्यान व तर्पण श्राद्ध किया जाता है। यह अमावस्या कालसर्प दोष से मुक्ति के लिए भी काफी खास मानी जाती है।

Shukra Gochar 2022: नए साल में शुक्र दो बार बदलेंगे अपनी चाल, इन राशि वालों को मिलेंगे मनचाहे परिणाम

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Ekta Sharma

  • Font Size
  • Close