Plant Vastu: कई लोग ऐसे होते हैं, जो जीवन में बहुत मेहनत करते हैं लेकिन फिर भी जीवन में खुश नहीं रह पाते। वहीं कई लोग ऐसे भी होते हैं, जो खूब कमाई करने के बाद भी में पैसा नहीं बचा पाते। आर्थिक रूप से वे हमेशा कमजोर ही बने रहते हैं। ज्योतिष शास्त्र का कहना है कि हम अपने घर में कई ऐसी चीजें रखते हैं जिससे परेशानी होती है। बहुत सी चीजें ऐसी होती हैं जिन्हें घर में नहीं रखा जा सकता है। इन्हें रखने से घर में नकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश होता है। पेड़-पौधों में भी सकारात्मक और नकारात्मक ऊर्जा का वास होता है। आइए जानते हैं कि पेड़-पौधों से जुड़े वे खास नियम कौन से हैं।

- ध्यान रखें कि घर के सामने या घर में कभी भी कटा हुआ पेड़ नहीं लगे रहने देना चाहिए। ऐसे पेड़ घर की सुख-समृद्धि में अवरोधक बनते हैं। ये परिवार में संतान सुख और उनकी सफलता में बाधक होते हैं। इसके अलावा वे मानसिक बीमारियों को भी न्यौता देते हैं।

- ज्योतिष शास्त्र के अनुसार हमारे घर में कई ऐसे पेड़-पौधे लगे होते हैं, जो हमारे जीवन में सफलता आने से रोकते हैं। घर में सकारात्मक ऊर्जा के प्रवेश को रोकते हैं। बता दें कि गुलाब, गेंदा, चमेली, चंपा के पेड़ लगाना शुभ माना जाता है। इन पेड़ों को लगाने से आपके जीवन में सफलता सुनिश्चित होती है।

- घर में तुलसी और केले का पौधा लगाना बहुत शुभ होता है। हिंदू धर्म में तुलसी के पौधे में मां लक्ष्मी का वास माना जाता है। वहीं केले के पेड़ में भगवान विष्णु का वास होता है। घर में केले और तुलसी के पौधे लगाने से माता लक्ष्मी और भगवान विष्णु की विशेष कृपा प्राप्त होती है। जीवन में सफलता आती है। ईश्वर की कृपा से आपके जीवन में काफी सुधार आएगा।

- क्रिस्टल बॉल को इकोसिस्टम के हिसाब से बहुत ही शुभ माना जाता है। हो सके तो घर में एक क्रिस्टल बॉल टांग दें। इसे ऐसी जगह पर रखें जहां से इसे रोशनी और हवा दोनों मिले। क्रिस्टल बॉल को घर में रखने से आपकी आर्थिक स्थिति में काफी सुधार होगा। आपका भाग्य चमकने लगेगा। आपके घर से नकारात्मक ऊर्जा चली जाएगी और जीवन में सफलता और तरक्की मिलेगी।

Zodiac Sign: बहुत जासूस होते हैं इस राशि के लोग

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Ekta Sharma

  • Font Size
  • Close