बृजेश शुक्ला, जबलपुर। अगर आप वर्ष 2020 में विवाह करने की सोच रहे हैं तो तैयारी करना शुरू कर दीजिए। क्योंकि विवाह के लिए जरूरी गुरु और शुक्र तारा युवाओं का साथ देने के लिए तैयार है। वर्ष 2019 की तुलना में 2020 में 26 दिन ज्यादा विवाह मुहूर्त मिल रहे हैं। भले ही नए साल में 13वां माह पुरुषोत्तम मास रहेगा लेकिन इसके कारण विवाह मुहूर्त में कोई बाधा नहीं रहेगी। विवाह के लिए गुरु और शुक्र तारा का साथ होना जरूरी है। इस माह 21 नवंबर को गुरु तारा का उदय हो रहा है। वहीं शुक्र का 8 सितंबर को उदय हो चुका है। वैसे इस साल 8 नवंबर को तुलसी विवाह के साथ शादियों की धूम हो जाएगी। हालांकि इस दिन मुहूर्त नहीं है लेकिन भगवान विष्णु का विवाह होने के कारण इस शुभ दिन लोग विवाह करते हैं।

एक माह बाद आएगी नवरात्रि

पुरुषोत्तम मास के कारण नए वर्ष में शारदेय नवरात्रि एक महीने देरी से आएगी। दरअसल पितृमोक्ष अमावस्या के बाद 18 सितंबर से 16 अक्टूबर तक पुरुषोत्तम (मलमास) मास रहेगा। इस कारण 17 अक्टूबर से नवरात्रि पर्व शुरू होगा। पुरुषोत्तम मास हर चार साल में एक बार आता है।

84 दिन होंगे लगन

वर्ष 2020 के नए पंचांग में 83 दिन विवाह का लगन है। वहीं उपनयन के लिए 18 दिन शुभ मुहूर्त है। 32 दिन डोली उठेगी यानी द्विरागमन के लिए 32 दिन शुभ मुहूर्त बन रहा है। उपनयन के लिए तीन अधिक मुहूर्त बन रहे हैं। 2019 में विवाह के लिए 57 दिन शुभ मुहूर्त रहे।

2020 में इतने होंगे विवाह

जनवरी- 16 से 22, 29 से 31

फरवरी- 3 से 5, 9 से 18, 20, 25 से 27

मार्च- 1 से 3, 7 से 13

अप्रैल- 14, 15, 20, 25 से 27

मई- 1 से 8, 10, 12, 17, 18, 19, 23, 24, 29

जून- 13 से 15, 25 से 30

जुलाई से अक्टूबर तक मुहूर्त नहीं है।

नवंबर- 26 और 30

दिसंबर-1,2,6,7,8,9,11 से 15 तक

वर्ष 2020 में इस साल से ज्यादा विवाह मुहूर्त रहेंगे। पुरुषोत्तम मास होने के कारण यह वर्ष 13 महीने का होगा। चातुर्मास के दौरान इस मास के होने के कारण शादियों के मुहूर्त पर असर नहीं पड़ेगा। - पंडित सौरभ दुबे, ज्योतिषाचार्य

Posted By: Prashant Pandey