रक्षाबंधन का त्योहार श्रवण शुक्ल की पूर्णिमा को मनाया जाता है। इस साल रक्षाबंधन 11 अगस्त सुबह 10 :30 बजे से शुरू होगी और 12 अगस्त को सुबह सात बजे समाप्त होगी। ज्योतिषाचार्य गौरव का मानना है कि रक्षाबंधन गुरुवार यानी 11 अगस्त को ही मनाया जाएगा। ज्योतिषाचार्य के मुताबिक इस वर्ष रक्षाबंधन के इस ख़ास त्योहार पर एक शुभ और मंगल योग बन रहा है। इस योग के बनने के कारण इस बार रक्षाबंधन का त्योहार काफी खास है।

रक्षाबंधन पर बन रहा है शुभ योग

ज्योतिषाचार्य के अनुसार ये त्योहार भाई और बहन के अटूट रिश्ते और प्यार का त्योहार होता है। इस बार ये त्योहार गुरुवार को मनाया जा रहा है, जिसमें अमृत योग बनता है। ये संयोग काफी सालों के बाद आता है और माना जाता है यह भाई-बहन के रिश्ते को और भी गहरा और अटूट बना देता है।

उत्तम फल के लिए क्या करें उपाय

इस दिन आपको अपने घर पर सत्यनारायण की पूजा करना बहुत ज़रूरी हैं। इस पूजा में आप केले का भोग लगाना न भूलें। इसी के साथ-साथ सत्यनारायण की पूजा का भोग घर में सभी को बांटें। बहनें अपनी रक्षाबंधन की थाली में घी का दीपक जलाकर ही अपनी भाई की आरती उतारें और चन्दन का टीका लगाएं।

सत्यनारायण की पूजा का मुहूर्त

सत्यनारायण की पूजा आप सुबह 9:30 बजे से दोपहर 12:30 के बीच कर सकते हैं।

Koo App

रक्षाबंधन शुभ मुहूर्त और उपाय |

View attached media content

- VS Astrology (@vsastrology) 8 Aug 2022

Koo App

येन बद्धो बलि: राजा दानवेन्द्रो महाबल: । तेन त्वामभिबध्नामि रक्षे मा चल मा चल ।। बहनों के मान-सम्मान की रक्षा और भाइयों के सुदीर्घ जीवन की मंगल-कामना के पवित्र पर्व रक्षा बंधन की आप सभी को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं! भाई-बहनों में परस्पर अपार स्नेह और प्रेम की उत्तरोत्तर वृद्धि हो, जीवन में शुभत्व, मंगल एवं आनंद के दीप देदीप्यमान रहें, स्नेह बंधन के पवित्र पर्व #रक्षाबंधन पर यही शुभकामनाएं! #रक्षाबंधनपर्व #RakshaBandhan

- Shivraj Singh Chouhan (@chouhanshivraj) 11 Aug 2022

Koo App

बिहार व समस्त देशवासियों को भाई-बहन के अटूट स्नेह-प्रेम और सामाजिक सौहार्द का पावन पर्व #रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं। लोकतांत्रिक संस्थाओं में आधी आबादी को उचित प्रतिनिधित्व देकर इस पर्व की सार्थकता सिद्ध हो सकती है, इस तरफ़ आ. श्री नीतीश कुमार जी की पहल देशभर में अतुलनीय है।

- Upendra Kushwaha (@upendrajdu) 11 Aug 2022

Posted By: Shailendra Kumar

  • Font Size
  • Close