Raksha Bandhan 2022: सावन का महीना शुरू हो चुका है। अब लोगों को रक्षाबंधन के त्योहार का इंतजार है। भाई-बहन के अटूट प्यार प्रतीक ये पर्व हर तरफ खुशियां लेकर आता है। राखी का त्योहार सावन माह में शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि के दिन मनाया जाता है। ज्योतिषाचार्य के अनुसार इस दिन अगर बहन कुछ विशेष उपाय करें, तो उनके भाई की जिंदगी में खुशियों में वृद्धि होती है।

रक्षाबंधन के दिन करें ये उपाय

- रक्षाबंधन के दिन बहनों को भगवान गणेशी की पूजा करना चाहिए। साथ ही गणपति को दूर्वा, चंदन, बेलपत्र और राखी अर्पित करें। इससे भाई को क्रोध कम होता है और समृद्धि में बढ़ोतरी होती है।

- रक्षाबंधन के दिन बहनों को भगवान शिवजी का जलाभिषेक करना चाहिए। साथ ही सुबह सूर्यदेव को जल अर्पित करें। इस उपाय से भाई-बहन का रिश्ता मजबूत होता है।

- रक्षाबंधन के दिन बहन खाना बनाकर भाई को खिलाना चाहिए। ऐसा करना शुभ माना गया है।

- रक्षाबंधन के दिन शुभ मुहूर्त में भाई को राखी बांधे। भाद्रपक्ष में राखी नहीं बांधनी चाहिए।

रक्षाबंधन तिथि और शुभ मुहूर्त

हिंदू पंचांग के अनुसार सावन माह की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा 11 अगस्त को है। इस दिन रक्षाबंधन का पर्व मनाया जाएगा। पूर्णिमा तिथि 11 अगस्त को सुबह 09.37 मिनट पर शुरू होकर 12 अगस्त को सुबह 07.18 मिनट पर समाप्त होगी। इसी दौरान भद्रा योग भी शुरू होगा, जो रात्रि 08.27 बजे तक रहेगा। पंडितों के अनुसार भद्रकाल में राखी बंधवाना शुभ नहीं होता। ऐसे में प्रदोषकाल में शुभ, लाभ, अमृत में से कोई एक चौघड़िया देखकर राखी बंधवा लें।

रक्षाबंधन पर इस बार चार योग

- 11 अगस्त को सूर्योदय से दोपहर 03.31 मिनट तक आयुष्मान योग रहेगा।

- सुबह 05.30 से शाम 06.53 मिनट तक रवि योग रहेगा।

- गुरुवार दोपहर 03.32 से शुक्रवार सुबह 11.33 मिनट तक सौभाग्य योग रहेगा।

- रक्षाबंधन पर धनिष्ठा नक्षत्र के साथ शोभन योग बनेगा।

11 अगस्त 2022 का चौघड़िया

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Shailendra Kumar

  • Font Size
  • Close