Rambha Teej 2021: इस वर्ष रंभा तीज व्रत ज्येष्ठ मास की शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि 13 जून रविवार को पड़ रहा है। इस दिन महिलाएं भगवान शिवजी और माता पार्वती की पूजा करती है। साथ ही सोलह श्रृंगार और उपवास रखती हैं। हिंदू मान्यताओं के अनुसार यह व्रत अप्सरा रंभा से जुड़ा है। इसलिए उन्हें स्मरण भी किया जाता है। पौराणिक मान्यता के मुताबिक यह व्रत रखने वाली स्त्रियों को यौवन, सौभाग्य और सुयोग्य संतान की प्राप्ति होती है। अप्सरा रम्भा ने भी यह व्रत किया था। इसलिए इससे रंभा तीज कहा जाता है। इसस दिन मां लक्ष्मी की पूजा करने से सौभाग्य की प्राप्ति होती है। आइए जानते हैं रंभ तीज का शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

रंभा तीज शुभ मुहूर्त

- तृतीया तारीख का आरंभ- 12 जून रात 8 बजकर 19 मिनट से

- तृतीया तिथि का समापन- 13 जून रविवार रात 9 बजकर 42 मिनट तक

रंभा तीज पूजा विधि

रंभा तीज करने वाले जातकों को सूर्योदय से पहसे उठना चाहिए। इसके बाद नहा-धोकर पूरे विधि-विधान के साथ भगवान भोलेनाथ, माता पार्वती और मां लक्ष्मी की पूजा करनी चाहिए। इसके बाद घर के पूजाघर में साफ-सफाई कर पूरे घर को गंगाजल से पवित्र करना चाहिए। गाय के गोबर से पूजाघर को लीपे और रेशमी कपड़ों से मंडप बनाए। फिर आटे और हल्दी से स्वस्तिव बनाना होगा। महिला स्वच्छ आसन पर बैठकर सभी देवों को प्रमाण करें। पांच घी के दीपक तैयार रखें। लाल चूड़ियों को पूजा में रखें। अब भगवान गणेश की पीजा करें। फिर घी के दीयों और चूड़ियों की। इसके बाद शिवजी और माता पार्वती की पूजा करें। मां पार्वती को चंदन, हल्दी, लाल फूल, अक्षत और पूजा सामग्री अर्पित करें।

Posted By: Arvind Dubey