Sankashti Chaturthi 2021: मार्गशीर्ष पूर्णिमा के बाद पौष माह की शुरुआत होती है। पौष माह की चतुर्थी तिथि को संकष्टी चतुर्थी मनाई जाती है। संकष्टी चतुर्थी भगवान गणेश का दिन है। इस वर्ष पौष माह में 22 दिसंबर के दिवस चतुर्थी का व्रत रखा जाएगा। आइए जानते हैं संकष्टी चतुर्थी का शुभ मुहूर्त और पूजन विधि। संकष्टी चतुर्थी के दिन सूर्योदय से पहले उठें और स्नान कर साफ कपड़े पहनें। अगर हो सके तो लाल रंग के वस्त्र पहने। ये बेहद शुभ होता है। इसके बाद भगवान गणपति की पूजा करें। गणेश जी को फल और फूल अर्पित करें। मंत्र 'गजाननं भूत गणादि सेवितं, कपित्थ जम्बू फल चारू भक्षणम्, उमासुतं शोक विनाशकारकम्, नमामि विघ्रेश्वर पाद पंकजम्' का 108 बार जाप करें।

संकष्टी चतुर्थी शुभ पूजा मुहूर्त

- चतुर्थी तिथि: 22 दिसंबर, 2021 बुधवार

- पूजा मुहूर्त: रात 08 बजकर 15 मिनट से 09 बजकर 15 मिनट तक (अमृत काल)

- चंद्र दर्शन मुहूर्त: रात 08 बजकर 30 मिनट से रात 09 बजकर 30 मिनट तक

संकष्टी चतुर्थी का चंद्रोदय समय

संकष्टी चतुर्थी में चांद रात 08 बजकर 12 बजे उदय होगा। इस दिन चंद्रमा के दर्शन करना शुभ माना जाता है। मान्यता के अनुसार बिना चंद्र दर्शन के व्रत अधूरा रहता है। इस दिन चंद्र को जल अर्पित करने के बाद उपवास तोड़ा जाता है। संकष्टी चतुर्थी व्रत रखने से भगवान गणपति की विशेष कृपा प्राप्त होती है। वह भक्तों की मनोकामनाएं पूरी होती है।

वार्षिक राशिफल 2022 (अपनी राशि पर करें क्लिक)

Taurus Horoscope 2022: राहु केतु प्रथम और सप्तम भाव में, जानिए वृषभ राशि वालों के लिए कैसा रहेगा नया साल

Leo Yearly Horoscope 2022: नए साल में सिंह राशि वाले रहें सावधान, जानिए हानि से बचाने का उपाय

Cancer Yearly Horoscope 2022: सप्तम भाव मे शनि होने के कारण कर्क राशि वालों को नए साल मिलेगी यह खुशी

Gemini Horoscope 2022: नए साल में मिथुन राशि वालों का भाग्य खुलेगा, नौकरी में प्रमोशन मिलेगा

Aries Horoscope 2022: मेष राशि वाले नए साल में हनुमानजी को लगाएं लड्डू का भोग, बसरेगी कृपा

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Shailendra Kumar