Sawan Maas 2020: ख्वाब हमारी कल्पनाओं का आईना होते हैं। ये हमारे मन की बातों को बताते हैं और कभी-कभी हमें जिंदगी की हकीकत से रुबरू भी करवाते हैं। सपने कई तरह को होते हैं। शास्त्रों में इनका अलग-अलग महत्व बतलाया गया है। कुछ सपने काल्पनिक होते हैं तो कुछ हमारी जिंदगी से जुड़ी हुई घटनाओं को बताते हैं। कभी-कभी कुछ स्वप्न हमको भविष्य में होने वाली घटना का संकेत भी देते हैं।

स्वप्न में शिवलिंग दर्शन

मान्यता है कि यदि आप सकारात्व विचार और ऊर्जा से ओतप्रोत हैं तो आपको अध्यात्म से जुड़े हुए स्वप्न आएंगे और वह आपको कोई शुभ संकेत देंगे। शिवभक्तों को स्वप्न में शिव के प्रतीक चिन्हों से जुड़े स्वप्न आते हैं, जो उनकी शिवभक्ति और उनसे जुड़े आशीर्वाद को बतलाते हैं। यदि आपको स्वप्न में शिवलिंग के दर्शन होते हैं तो आप जल्द परेशानियों से मुक्त होने वाले हैं और धन-संपत्ति आपके पास आने वाली है। स्वप्न में शिवलिंग के दर्शन से मानव को पूर्णता का अहसास होता है, क्योंकि शिवलिंग स्वंय में पूर्णता का प्रतीक है।

स्वप्न में शिव-पार्वती के दर्शन

भगवान महादेव और देवी पार्वती के एक साथ स्वप्न में देखने का मतलब है कोई बेहतर अवसर आपकी राह देख रहा है और उससे आपका भाग्योदय होने वाला है। इसका मतलब है कि आपको व्यापार, नौकरी आदि में लाभ के साथ आपकी संपत्ति और सुखों में इजाफा होने वाला है। यानी कुल मिलाकर आपकी किस्मत चमकने वाली है।

भोलेनाथ तांडव स्वरूप में दर्शन

भोलेनाथ यदि तांडव स्वरूप में स्वप्न में दिखाई दे तो यह आपको समस्याओं से मुक्ति दिलवाने वाला होता है। शिव का तांडव नृत्य बुराइयों औऱ दुष्टों के संहार का प्रतीक है। यानी आप जल्द ही दिक्कतों से निजात पाने वाले हैं। इसका एक अर्थ यह भी होता है कि आपको धन तो मिलेगा, लेकिन संघर्षों के बाद। शिव मंदिर के स्वप्न में दिखाई देने का मतलब होता है की आपको पुत्र रत्न की प्राप्ति हो सकती है। इसके साथ आप बीमारियों से भी निजात पा सकते हैं।

स्वप्न में त्रिशूल के दर्शन

स्वप्न में त्रिशूल दिखाई देने का मतलब है कि आपकी परेशानियां जल्द खत्म होने वाली है, क्योंकि त्रिशूल भूत, भविष्य और वर्तमान का प्रतीक माना जाता है। महादेव के अर्धचंद्र का स्वप्न में आने का मतलब है कि आपको ज्ञान की प्राप्ति हो सकी है अर्थात आपको शिक्षा के क्षेत्र में कोई उपलब्धि हासिल हो सकती है। शिव का तीसरा नेत्र जागरुकता का प्रतीक है इसके स्वप्न में आने का मतलब जिंदगी से जुड़े अहम बदलाव से होता है।

डमरू है ब्रह्मांड का प्रतीक

महादेव का डमरू ब्रह्मांड का प्रतीक माना जाता है। इसके स्वप्न में आने का मतलब होता है कि आपके जीवन में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश होने वाला है। जो आपकी जिंदगी को बेहतर बनाएगा। मां गंगा को ज्ञान का प्रतीक माना जाता है। गंगा के स्वप्न में आने का मतलब होता है कि आपकी अंतरात्मा निर्मल हो रही है और आप ज्ञान और आध्यात्म की ओर अग्रसर हो रहे हैं।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan