Sawan Mas 2020: सनातन संस्कृति में देवशयनी एकादशी के दिन से चातुर्मास लग जाता है। इसको चतुर्मास और चतुर्मास्य के नाम से भी जाना जाता है। बारिश के जोर पकड़ने के साथ ही चातुर्मास का भी प्रारंभ हो जाता है। इस साल इसका प्रारंभ 1 जुलाई बुधवार से हो रहा है। इस दिन भगवान श्रीहरी शयन के लिए योगनिद्रा में प्रस्थान करते हैं। चातुर्मास में व्रत, पूजा, देव-दर्शन का विशेष महत्व है।

चातुर्मास में जप-तप से होती है मनोकामना पूरी

चातुर्मास में संत. महात्मा, ऋषि, मुनि अपने भ्रमण को विराम देकर एक जगह पर निवास करते हैं और जप-तप, पूजा-पाठ करते हैं। इन दिनों देव दर्शन का विशेष महत्व है। वर्षाकाल की चार महीने की अवधि को चातुर्मास कहा जाता है। चातुर्मास में व्रत रखने वालों को ब्रह्म मुहूर्त में उठना चाहिए।

स्नान आदि से निवृत्त होकर देव आराधना करना चाहिए। इस दौरान मिट्टी, तिल और कुश के प्रयोग से जीवन में शुभता आती है। इन दिनों में भगवान विष्णु की आराधना के साथ विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करना विशेष फलदायी होता है। वर्षाकाल में सूक्ष्म जीव काफी ज्यादा होते हैं, इसलिए चातुर्मास में तीर्थाटन के अलावा यात्रा की मनाही होती है। मान्यता है कि सभी देवी-देवता भी इस अवधि में एक स्थान पर निवास करते हैं।

चातुर्मास में खान-पान का रखें खास ख्याल

शास्त्रों में चातुर्मास के दौरान संयम से रहने की सलाह दी जाती है। चातुर्मास करने वाले व्यक्ति को ब्रह्मचारी व्रत का पालन करना चाहिए। भूमि पर शयन करना चाहिए। तामसिक आहार और नशीले पदार्थ का त्याग करना चाहिए। भोजन में नमक के प्रयोग का त्याग करना चाहिए। व्रत रखने वालों को गेहूं, मूंग दाल और जई जैसे खाद्य पदार्थों को खाने से बचना चाहिए। चातुर्मास के दौरान खानपान का विशेष ध्यान रखना पड़ता है।

इन चार महीनों में पत्तेदार सब्जियों का सेवन नहीं करना चाहिए। खासकर सावन मास में हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन नहीं करना चाहिए। भादौ मास में दही का सेवन नहीं करना चाहिए। आश्विन मास में दूध पीने से परहेज करना चाहिए। कार्तिक मास में दालों का सेवन करने से बचना चाहिए। इन चार महीनों में मांसाहार प्याज, लहसुन और तामसिक भोजन का भी त्याग करना चाहिए।

Posted By: Yogendra Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना