Sawan Purnima 2022: श्रावण मास की पूर्णिमा का हिंदू धर्म में बहुत महत्व है। इस दिन शिवजी का प्रिय सावन का महीना पूरा होता है। वहीं बहन-भाई के प्रेम का प्रतीक रक्षाबंधन का त्योहार मनाया जाता है। इस साल श्रावण मास की पूर्णिमा 11 अगस्त, गुरुवार के दिन है। इस दिन महादेव का रुद्राभिषेक और भगवान विष्णु की कृपा पाने के लिए व्रत रखा जाता है। साथ ही यह पर्व चंद्र देवता की पूजा के लिए जाना जाता है। आइए जानते हैं श्रावस मास की पूर्णिमा का शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और उपाय के बारे में।

Sawan Purnima 2022: श्रावण मास की पूर्णिमा का शुभ मुहूर्त

हिंदू पंचांग के अनुसार इस साल श्रावण मास की पूर्णिमा 11 अगस्त 2022, गुरुवार को प्रातः काल 10 बजकर 38 मिनट से अगले दिन प्रातःकाल 7 बजकर 5 मिनट तक रहेगी। इस दिन अभिजित मुहूर्त दोपहर 12 बजे से लेकर 12 बजकर 53 मिनट तक रहेगा। वहीं अमृत काल सायंकाल 6 बजकर 55 मिनट से रात 8 बजकर 20 मिनट तक रहेगा।

Sawan Purnima 2022: पूजा से मनोकामना होगी पूरी

अगर आप किसी कारण सावन के महीने में भगवान शिव की पूजा या रुद्राभिषेक नहीं कर पाए हैं, तो श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन विधि-विधान से पूजा करें। इससे भोलेनाथ प्रसन्न होंगे और उनकी कृपा से सभी मनोकामनाएं पूरी होगी।

Sawan Purnima 2022: इस पूजा से चंद्र देव होंगे प्रसन्न

श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन चंद्र देवता से वरदान पाने के लिए खास है। मान्यता है कि अगर किसी जातक की कुंडली में चंद्रदोष है, तो उसे दूर करने के लिए सावन की पूर्णिमा के दिन चंद्र देवता को दूध और गंगाजल से अर्घ्य देना चाहिए।

Sawan Purnima 2022: विष्णु संग देवी लक्ष्मी का मिलेगा आशीर्वाद

पूर्णिमा पर भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी की पूजा का महत्व है। ऐसे में श्रीहरि और माता लक्ष्मी का आशीर्वाद पाने के लिए व्रत रखें। पूजा में पीले पुष्प और पीली कौड़ी चढ़ाएं। अगले दिन कौड़ी को लाल कपड़े में बांधकर अपने अलमारी या तिजोरी में रख दें। इस उपाय से घर में हमेशा बरकत बनी रहेगी।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By:

  • Font Size
  • Close