Shani Jayanti 2020: शनि महाराज को न्याय का देवता माना जाता है और वह व्यक्ति के काम के हिसाब से उसको दंड देते हैं। मान्यता है कि शनि महाराज की दृष्टि जिस व्यक्ति पर पड़ती है उसका कुछ न कुछ अनिष्ट जरूर होता है। इसलिए नौ ग्रहों में शनि महाराज का विशिष्ठ स्थान है। शनि देव गरीबों की सेवा करने और उनका ख्याल ऱकने वाले पर विशेष प्रसन्न होते हैं और उनके ऊपर अपनी कृपादृष्टि बनाए रखते हैं।

शनिदेव को प्रसन्न करने के अनेक उपाय शास्त्रों में दिए गए हैं। जिनको कर भक्त शनिदेव की कृपा प्राप्त कर सकते हैं। शनि के कष्टों के निवारण के लिए शनि अमावस्या के दिन शुभ शुभ मुहूर्त में सुन्दरकाण्ड या हनुमान चालीसा का का 21 बार पाठ करें। काली गाय की सेवा करें और उसके सिर पर रोली लगाकर सींगों में कलावा बांधकर आरती करें फिर परिक्रमा कर गाय को बून्दी के चार लड्डू खिलाएं। सूर्यास्त के बाद बजरंगबली का पूजन करें और पूजन में सिन्दूर नीले रंग के फूल का प्रयोग करें, तिल्ली के का दीपक लगाएं।

शनि महाराज के दस नाम कोणस्थ, पिंगल, बभ्रु, कृष्ण, रौद्रान्तक, यम, सौरि, शनैश्चर, मंद व पिप्पलाद का जाप करें। शनि अमावस्या के दिन सूर्योदय से पहले उठकर स्नान आदि से निवृत्त होकर शनिदेव की मूर्ति के सामने कुश के आसन पर बैठ जाएं। शनि महाराज का पूजन कर रूद्राक्ष की माला से शनि महाराज के मंत्रों का जाप करें। शनि महाराज से अपने पापों की क्षमायाचना करें और सुख-समृद्धि की कामना करें।

अमावस्या के एक दिन पहले सवा-सवा किलो काले चने अलग-अलग तीन बर्तनों में भिगो कर रख दें। स्नान आदि से निवृत्त होकर चनों को सरसो के तेल में छौंक कर इनका भोग शनिदेव को लगायें। इसमें से सवा किलो चना भैंसे को खिला दें। दूसरा सवा किलो चना कुष्ट रोगियों में बांट दें और तीसरा सवा किलो चना अपने ऊपर से उतार कर किसी सुनसान स्थान पर रख दें।

Posted By: Yogendra Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना