Shani Pradosh Vrat: धार्मिक ग्रंथों में ग्रहों की शांति के लिए प्रदोष व्रत को काफी महत्वपूर्ण माना गया है। इस बार 5 नवंबर को कार्तिक माह का अंतिम प्रदोष व्रत है। शनिवार का दिन होने की वजह से इसे शनि प्रदोष कहा गया है। प्रदोष व्रत में विधि-विधान से भगवान शिव और माता पार्वती का पूजन किया जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन पूजा-अर्चना से अगर भगवान शिव प्रसन्न हो जाएं तो आपकी सभी समस्याएं दूर होंगी। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शनि को प्रसन्न करने के लिए भगवान शिव या उनके ग्यारहवें रुद्र हनुमानजी की पूजा करनी चाहिए। अगर ये प्रसन्न हो जाएं, तो शनि की बुरी दृष्टि का असर नहीं होता और तमाम बाधाएं दूर हो जाती हैं।

शनि के होती है लंबी समस्याएं

इस बार शनिवार के दिन ही प्रदोष व्रत है। इस दिन पूजा-पाठ से शनिदेव भी प्रसन्न होंगे और भगवान शिव का आशीर्वाद भी मिलेगा। अगर आपके जीवन में समस्याएं कम नहीं हो रही हैं, आर्थिक परेशानी लगातार बनी हुई है, ऋण या रोग से छुटकारा नहीं मिल रहा है, तो ये शनि की दृष्टि का असर हो सकता है। ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक लंबी समस्या, दूूर ना होनेवाली बीमारियां और लगातार आर्थिक समस्या शनि की वजह से होते हैं। ऐसे में शनि प्रदोष व्रत के दिन कुछ उपाय करने से विशेष लाभ प्राप्त हो सकता है। तो चलिए जानते हैं शनि प्रदोष के दिन कौन-से उपाय करने चाहिए -

  1. शनि प्रदोष के दिन छाया दान करें। यानी किसी बरतन में सरसों का तेल लें, उसमें एक सिक्का डालें और फिर उसमें अपनी छाया देखें। इसके बाद इसे मंदिर में या किसी जरूरतमंद को दान करें। ऐसा करने से शनि दोष से मुक्ति मिलती है और शनिदेव का आशीर्वाद प्राप्त होता है।
  2. प्रदोष व्रत के दिन भगवान शिव के साथ-साथ शनिदेव की भी पूजा-अर्चना करें। इस दिन शनि चालीसा के साथ-साथ शनि स्त्रोत का पाठ करना उत्तम माना गया है। इससे शनि देव की कृपा प्राप्त होती है।
  3. इस दिन गरीब, असहाय और जरूरतमंद लोगों को अन्न और जल आदि का दान करें। साथ ही घर के प्रवेश द्वार पर घोड़े की नाल लगाएं। ऐसा करने से कारोबार में तरक्की होती है। साथ ही घर में सुख और समृद्धि का आगमन होता है।
  4. प्रदोष व्रत के दिन उड़द दाल, खिचड़ी, सरसों का तेल, छतरी, काले तिल, काले जूते और कंबल आदि चीजों का दान करें। ऐसा करने से शनिदेव प्रसन्न होंगे और शनि ग्रह से जुड़े दोष दूर होंगे।
  5. इस दिन काले कुत्ते को तेल से चुपड़ी मीठी रोटी खिलाएं। इससे भैरव नाथ खुश होते हैं और शनि से जुड़ी बाधाएं दूर होती हैं।

Posted By: Shailendra Kumar

  • Font Size
  • Close