Navratri 2020 Live Aarti: नवरात्र के चौथे दिन मां कुष्मांडा की आराधना होती है। मां कुष्मांडा के बारे में कहा जाता है कि ये सृष्टि की आदि शक्ति हैं। Maa Kushmanda की 8 भुजाएं हैं। इसलिए इन्हें अष्ठभुजा भी कहते हैं। इनके सात हाथों में क्रमशः कमंडल, धनुष, बाण, कमल-पुष्प, अमृतपूर्ण, कलश, चक्र और गदा हैं। आठवें हाथ में सभी सिद्धियों और निधियों को देने वाली जप माला है। Maa Kushmanda का वाहन सिंह है। संस्कृत में कुम्हड़े को कूष्मांड कहते हैं इसलिए इस देवी को कूष्मांडा कहते हैं। कहते हैं मां ने अपनी मंद हंसी से ब्रह्मांड को उत्पन्न किया है। इसलिए भी मां को कुष्मांडा देवी कहा जाता है। मां सूर्य के भीतर लोक में रहती हैं। सूर्यलोक में रहने की शक्ति क्षमता केवल इन्हीं में है। इनके शरीर की क्रांति और प्रभा सूर्य की भांति ही दैदीप्यमान है। इनके ही तेज से दसों दिशाएं आलोकित होती हैं।

Maa Kushmanda पूजन विधि

सबसे पहले कलश और देवी देवता की पूजा करते हैं फिर मां दुर्गा के परिवार में शामिल सभी देवी देवताओं की पूजा अर्चना करते हैं जो देवी की प्रतिमा के दोनों तरफ विरजामन हैं। इनकी पूजा के पश्चात देवी कुष्माण्डा की पूजा करते हैं। पूजा की विधि शुरू करने से पहले हाथों में फूल लेकर मां भगवती को प्रणाम करते हैं। उसके पश्चात भगवान् भोलेनाथ और परम पिता की पूजा करते हैं। इस दिन जो भक्त श्रद्धा पूर्वक इस देवी की उपासना करता है उसके सभी प्रकार के कष्ट रोग, शोक का अंत होता है और आयु एवं यश की प्राप्ति होती है।

Maa Kushmanda का भक्ति से फल की प्राप्ति

देवी के इस रूप का ध्यान करने मात्र से कई तरह की व्याधियों का नाश होता है और सुख की प्राप्ति होती है। देवी की आराधना के लिए भक्तों को सदैव तत्पर रहना चाहिए। इस मंत्र की करें स्तुति...सुरासम्पूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च। दधानां हस्तपद्माभ्यां कुष्मांडा शुभदास्तु मे।। Maa Kushmanda को मिठाई का भोग लगाया जाता है।

Posted By: Arvind Dubey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस