Shubh Muhurat 2022: साल 2021 का आखिरी विवाह मुहूर्त 13 दिसंबर को है। 16 दिसंबर से खरमास शुरू होगा। इसके बाद विवाह कार्य नए साल 2022 में 15 जनवरी से शुरू होंगे। वर्ष 2022 में विवाह के कई शुभ मुहूर्त है। साल में आठ महीने शादियां होंगी, लेकिन इस अवधि में 87 दिन विवाह मुहूर्त के लिए लाभकारी हैं। वहीं इन मुहूर्त में सर्वाधिक शादियां 3 मई को अक्षय तृतीया को होगी। खरीदी के लिए 14 दिसंबर को मोक्षदा एकादशी को शुभ योग है। साल 2021 का आखिरी पुष्य नक्षत्र योग 21 और 22 दिसंबर को है। वहीं 18 जनवरी 2022 को भौम पुष्य योग रहेगा। इन योगों में शॉपिंग मंगलकारी साबित होगी। आइए जानते हैं अगले साल कौन से महीने में है शुभ मुहूर्त।

जनवरी 2022

15, 20 से 25, 27 से 30 (कुल 11 दिन शुभ)

फरवरी 2022

4 से 6, 9 से 11, 16 से 21 (कुल 12 दिन शुभ)

अप्रैल 2022

15, 17, 19 से 23, 27, 28 (कुल 9 दिन शुभ)

मई 2022

2 से 4, 9 से 20, 24 से 26, 31 (कुल 19 दिन शुभ)

जून 2022

1, 5 से 17, 21 से 23, 26 (कुल 18 दिन शुभ)

जुलाई 2022

2, 3, 5, 6, 8 (कुल 5 दिन शुभ)

नवंबर 2022

4, 26 से 28 (कुल 4 दिन शुभ)

दिसंबर 2022

2 से 4, 7 से 9, 12 से 15 (कुल 9 दिन शुभ)

ज्योतिषियों के अनुसार इस साल 11, 12 और 13 दिसंबर को विवाह मुहूर्त है। 16 दिसंबर से खरमास शुरू हो जाएगा। 15 जनवरी 2022 से विवाह मुहूर्त शुरू होंगे। मार्च में गुरु के अस्त रहने से मुहूर्त नहीं है। वहीं अगस्त से अक्टूबर में सूर्य के कर्क राशि, सिंह और तुला राशि में गोचर के कारण शादियां नहीं होंगी। शास्त्रों के अनुसार खरमास और धनारस में विवाह नहीं होते हैं।

बता दें, कोरोना महामारी का सबसे ज्यादा असर शादियों पर भी पड़ा है। इसके वे लोग प्रभावित हुए हैं जो शादियों से जुड़ी सेवाएं देते हैं। कोरोना काल और लॉकडाउन के दौरान एक वक्त ऐसा भी था जब सरकार ने 25 लोगों के साथ शादी करने की अनुमति दी थी। अब नए साल में उम्मीद की जा रही है कि कोरोना महामारी का असर और कम होगा और रोनक लौटेगी।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Arvind Dubey