Surya Grahan 2020 : आगामी 21 जून, 2020 को सूर्य ग्रहण लगने जा रहा है। यह कंकणाकृति का है। यह ग्रहण भारत में खंडग्रास रूप में दिखाई देगा। पिछले साल के अंतिम सप्‍ताह और इस साल के पहले सप्‍ताह में ग्रहण का संयोग था। पहले सूर्य ग्रहण उसके बाद चंद्र ग्रहण लगा था। अब इस साल फिर से सूर्य ग्रहण की घटना होने जा रही है। भारतीय मानक समय अनुसार ग्रहण का आरंभ दिन में 10 बजकर 42 मिनट पर होगा। ग्रहण का मध्‍य 12 बजकर 29 मिनट दोपहर पर होगा एवं इसका मोक्ष दोपहर 2 बजकर 7 मिनट पर होगा। ग्रहण की अवधि 3 घंटे की रहेगी। यह अधिकांश भू-मंडल पर दिखाई देगा। इससे पहले 5 जून को चंद्र ग्रहण भी लगेगा। साल के अंत में एक और सूर्य ग्रहण होगा। कंकणाकृति होने का अर्थ यह है कि इससे कोरोना का रोग नियंत्रण में आना शुरू हो जाएगा।

देश व दुनिया पर होगा यह प्रभाव

यह सूर्य ग्रहण मृगशिरा नक्षत्र में मिथुन राशि पर होगा। ज्‍योतिष गणना के अनुसार इसका प्रभाव मिला जुला रहेगा। इसके चलते संभलकर रहने की जरूरत है। ज्‍योतिष पंडित गणेश शर्मा का कहना है कि इस ग्रहण के प्रभाव स्‍वरूप देश व दुनिया में पड़ोसी राष्‍ट्रों के आपसी तनाव, अप्रत्‍यक्ष युद्ध, महामारी, किसी बड़े नेता की हानि, राजनीतिक परिवर्तन, हिंसक घटनाओं में इजाफा, आर्थिक मंदी आदि पनपने के संकेत हैं। जहां तक भारत की बात है, विश्‍व में भारत का प्रभाव बढ़ेगा। महामारी से कई देशों को नुकसान होगा।

12 राशियों पर यह होगा प्रभाव

मेष - सफलता के संकेत

वृषभ - धन, यश की हानि

मिथुन - दुघर्टना की आशंका रहेगी

कर्क - संपत्ति के मामले में हानि हो सकती है।

सिंह - कहीं से लाभ प्राप्‍त होने के संकेत हैं।

कन्‍या - ग्रहण लाभकारी है। सुखद परिणाम मिलेंगे।

तुला - वाणी पर नियंत्रण रखें। झगड़ा हो सकता है।

वृश्चिक - ग्रहण ठीक नहीं है। कष्‍ट हो सकता है।

धनु - स्‍त्री पीड़ा का योग बन रहा है।

मकर - इस राशि के लोगों के लिए यह शुभ है।

कुंभ - जीवन में चिंता बढ़ सकती है।

मीन - परेशानी व बीमारी का सामना करना पड़ सकता है।

साल 2020 में इन तारीखों पर अगले ग्रहण

- पहला ग्रहण: 10-11 जनवरी, चंद्र ग्रहण

- दूसरा ग्रहण: 5 जून को होगा, यह चंद्र ग्रहण होगा

- तीसरा ग्रहण: 21 जून को होगा, यह सूर्य ग्रहण होगा

- चौथा ग्रहण: 5 जुलाई को होगा, यह चंद्र ग्रहण होगा

- पांचवा ग्रहण: 30 नवंबर को होगा, यह चंद्र ग्रहण होगा

- छठा ग्रहण: 14 दिसंबर को होगा, यह सूर्य ग्रहण होगा

कोरोना को लेकर ज्‍योतिष का यह अहम संकेत

ज्‍योतिषीय पक्ष की मानें तो इस ग्रहण के बाद ऐसे योग निर्मित होंगे, जिससे कोरोना का संक्रमण खत्‍म होना शुरू होगा और इसके बाद सितंबर तक यह पूरी तरह से नष्‍ट हो जाएगा। कोरोना वायरस का संक्रमण जनवरी के बाद तेजी से फैलना शुरू हुआ था। इससे पहले 26 दिसंबर को सूर्य ग्रहण लगा था। ज्‍योतिषीय गणना के अनुसार यह ग्रहण नकारात्‍मक परिणाम देने वाला था, इसके चलते ही यह महामारी उत्‍पन्‍न हुई। लेकिन रोचक बात यह है कि ग्रहण से उपजा यह संकट ग्रहण से ही समाप्‍त होगा।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना