Raksha Bandhan 2019: भाई-बहन के अटूट प्यार का त्योहार रक्षाबंधन इस बार 15 अगस्त को मनाया जाएगा। इस बार रक्षाबंधन गुरुवार के दिन पड़ रहा है। राखी का त्योहार गुरुवार के दिन आने से इसका महत्व काफी बढ़ गया है। इस खबर के जरिए हम आपको राखी बांधने का सही समय, तरीका और विशेष मंत्र के बारे में बता रहे हैं। इस विधि अनुसार राखी बांधने से भाई-बहन के रिश्ते में मधुरता बनी रहती है।

शुभ मुहूर्त और सही तरीका

राखी बांधने का शुभ मुहूर्त इस बार 15 अगस्त को सुबह 5: 49 मिनट से शुरू होगा। इस शुभ मुहूर्त से लेकर बहनें अपने भाई शाम 6.01 बजे तक राखी बांध सकती हैं। वैसे, सुबह 6 से 7.30 बजे, और सुबह 10.30 बजे से दोपहर 3 बजे तक राखी बांधने का सबसे अच्छा मुहूर्त है। सावन के पूर्णिमा तिथि की शुरुआत 15:45 (14 अगस्त ) से ही हो जाएगी। इसका समापन 17:58 (15 अगस्त) को हो जाएगा। खास बात ये भी है कि कई सालों के बाद यह पहली बार होगा जब राखी के मौके पर भद्रा का साया नहीं होगा।

राखी की थाली

इस दिन बहनों को खास तरह से राखी की थाली सजानी चाहिए। इस खास थाली में रोली, अक्षत, कुमकुम, मिठाई, दीपक और राखी जरूर रखें। इसके बाद भाई को पूर्व या पश्चिम की दिशा में बैठाए और उसकी आरती उतारें। हालांकि, शुभ फल के लिए उत्तर दिशा भी योग्य मानी गई है। आरती उतारने के बाद भाई के माथे पर तिलक लगाएं और उसके दाहिने हाथ में राखी बांधे। राखी बांधने के बाद फिर भाई की आरती उतारें और उसे मिठाई खिलाएं।

राखी मंत्र

शास्त्रों और पुराणों में कहा गया है कि रक्षासूत्र बांधने के दौरान मंत्र पढ़े जाने चाहिए। मंत्र पढ़ने से जल्दी और शुभ फल मिलता है। इसीलिए राखी बांधते समय 'येन बद्धो बलिराजा, दानवेन्द्रो महाबलः तेनत्वाम प्रति बद्धनामि रक्षे, माचल-माचल' मंत्र का जाप करें।