Vastu Tips for Navratri 2022: नवरात्रि भारत के सबसे शुभ त्योहारों में से एक है और इसे बहुत धूमधाम और शो के साथ मनाया जाता है। होली और दिवाली की तरह ही, हिंदू धर्म में भी नवरात्रि का बहुत बड़ा महत्व है। नौ दिनों तक चलने वाले उत्सव के दौरान, हम अपने घरों में देवी दुर्गा का स्वागत करते हैं और उनकी पूजा करते हैं। हम अपने घरों में सुख-समृद्धि के लिए प्रार्थना करते हैं और अपनी भक्ति का फल पाने के लिए बेसब्री से इंतजार करते हैं। कभी-कभी हम कुछ छोटी-छोटी गलतियाँ करते हैं जो अक्सर हमारे घरों में सकारात्मकता के मार्ग को अवरुद्ध कर देती हैं, और इनमें वास्तु से संबंधित मुद्दे भी शामिल हैं। वास्तु पांच तत्वों, अर्थात् अंतरिक्ष, वायु, अग्नि, जल और पृथ्वी को संतुलित करने में मदद करता है, जो हमारे घरों को शांति और समृद्धि से भरने में मदद करता है। इसलिए, यहां हम आपके लिए इस नवरात्रि का पालन करने के लिए कुछ विशेष वास्तु टिप्स लेकर आए हैं जो आपको मां दुर्गा का आशीर्वाद लेने में मदद करेंगे।

अपने घर के मुख्य द्वार पर स्वास्तिक बनाएं

स्वास्तिक एक पवित्र प्रतीक है जिसका हिंदू संस्कृति में बहुत महत्व है। इसी के साथ इस नवरात्रि में अपने घर के मुख्य द्वार पर स्वास्तिक बनाना शुभ होता है. वास्तु के अनुसार, यह न केवल घर में भाग्य और समृद्धि लाता है, बल्कि सभी नकारात्मकता और बीमारियों को भी दूर रखता है। इसलिए अपने परिवार को खुश और स्वस्थ रखने के लिए लाल या पीले रंग का स्वास्तिक तैयार करें और साथ में कुछ चावल भी।

मुख्य द्वार पर आम के पत्ते लटकाएं

वास्तु के अनुसार ऐसा माना जाता है कि आम के पत्तों को घर के मुख्य द्वार पर लटकाने से नकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश रोका जा सकता है। तो इस नवरात्रि में आम के कुछ ताजे पत्ते लें और उन्हें लाल धागे से बांध दें। एक बार हो जाने के बाद, धागे को अपने घर के मुख्य दरवाजे के दोनों सिरों पर बांध दें। इसके अलावा, आप पूजा के दौरान आम के पत्तों को भी शामिल कर सकते हैं क्योंकि इसे शुभ माना जाता है।

शाम की आरती के दौरान अपने घर में कपूर जलाएं

नवरात्रि के नौ दिनों में दिन में दो बार आरती करनी चाहिए। हालांकि, नवरात्रि में सूर्यास्त के समय सात कपूर जलाकर आरती करना वास्तु के अनुसार शुभ माना जाता है। कपूर देवी दुर्गा को प्रसन्न करता है, जिसके परिणामस्वरूप घर में सभी नकारात्मक ऊर्जाओं का नाश होता है। इसके अलावा, यह भी कहा जाता है कि यह अनुष्ठान समृद्धि को आकर्षित करने में मदद करता है और देवी लक्ष्मी भी घर में आती हैं।

अपने घर के उत्तर-पूर्व में तुलसी का पौधा लगाएं

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार तुलसी को पवित्र पौधा माना गया है। घर में तुलसी का पौधा लगाना नकारात्मक ऊर्जा के प्रवेश को रोकने का एक शानदार तरीका है। इसके अलावा, यह आपके घर में कई स्वास्थ्य समस्याओं और बीमारियों को नष्ट करने में भी मदद करता है। इसलिए इस नवरात्रि में सकारात्मकता को आकर्षित करने के लिए अपने घर की उत्तर-पूर्व दिशा में तुलसी का पौधा लगाएं। इसके अलावा, हर शाम पौधे के बगल में एक दीया जलाना अतिरिक्त फायदेमंद हो सकता है।

अपने घर के मंदिर में जलाएं 'अखंड ज्योत'

अखंड ज्योत अंग्रेजी में अनंत प्रकाश का अनुवाद करता है। वास्तु के अनुसार, अखंड ज्योत को नवरात्रि पूजा का एक अनिवार्य हिस्सा माना जाता है। इसलिए, प्रत्येक भक्त नवरात्रि उत्सव के पहले दिन इसे जलाता है और हर दिन इसमें तेल या घी डालना सुनिश्चित करता है। कहा जाता है कि शुभ घटनाएं हमारे घरों में सौभाग्य और बहुतायत लाती हैं। हालांकि, इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि अखंड ज्योत को कभी भी सीधे जमीन पर नहीं रखना चाहिए।

अपने मंदिर में पानी और फूलों से भरा एक बर्तन रखें

अखंड ज्योत के अलावा हमें नवरात्रि के पहले दिन अपने मंदिर में साफ पानी और कुछ फूलों से भरा एक बर्तन भी रखना चाहिए। पूरे उत्सव के दौरान बर्तन को मंदिर में सावधानी से रखना चाहिए। और नवरात्रि के अंतिम दिन, यानी नवमी को, हमें नकारात्मक ऊर्जाओं को दूर करने के लिए इस पवित्र जल को अपने घर में छिड़कना चाहिए। इसके अलावा, यह प्रक्रिया हमारी वित्तीय स्थिति को सुधारने और हमारे घरों में समृद्धि लाने में भी मदद करती है।

देवी दुर्गा को लाल फूल और भोग अर्पित करें

देवी दुर्गा को लाल रंग बहुत पसंद होता है, इसलिए पूजा के दौरान उन्हें लाल फूल अर्पित करना बेहद फायदेमंद माना जाता है। इसलिए प्रतिदिन लाल फूल जैसे गुलाब, गुड़हल, कमल आदि तोड़कर देवी को अर्पित करें। इसके अलावा, आपको नवरात्रि के दौरान भोग के लिए बिना प्याज या लहसुन के ताजा खाना बनाना चाहिए। एक बार जब यह देवी को अर्पित किया जाता है, तो हमें इसे घर के हर सदस्य को परोसना चाहिए। यह आपके घर से किसी भी वास्तु दोष को दूर करने में मदद करेगा।

Planet Transit in October 2022: अक्टूबर में बदल रही है 7 ग्रहों की चाल, इन राशि के लोगों को बड़ा फायदा

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Navodit Saktawat

  • Font Size
  • Close