Festival 2023। साल का अंतिम माह दिसंबर शुरू हो चुका है और कुछ ही दिनों में साल 2023 भी शुरू हो जाएगा। हिंदू धर्म में हर साल कुछ ऐसे व्रत रखे जाते हैं, जो संतान की खुशहाली और उनकी लंबी उम्र के लिए रखे जाते हैं। साल 2023 में भी कुछ ऐसे व्रत रखें जाएंगे, जिनकी जानकारी हम आपको यहां दे रहे हैं। यदि आप भी अपनी संतान की लंबी आयु के लिए और उनकी खुशहाली के लिए व्रत रखना चाहते हैं तो साल 2023 में आने वाले इन तीन व्रतों को विधि-विधान के अनुसार जरूर रखें।

पौष पुत्रदा एकादशी

हर साल पौष माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को पुत्रदा एकादशी व्रत रखा जाता है। पुत्रदा एकादशी व्रत पर भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी की पूजा की जाती है। इसके अलावा जिन दंपत्ति को संतान सुख की प्राप्ति नहीं होती है, वे लोग भी पुत्रदा एकादशी का व्रत रखते हैं। साथ ही जिन माता-पिता की संतान होती है, वे भी अपने संतान की लंबी आयु और सुख-समृद्धि के लिए पुत्रदा एकादशी व्रत रखते हैं। साल 2023 में पुत्रदा एकादशी व्रत 27 अगस्त, रविवार को है।

सावन पुत्रदा एकादशी

सावन पुत्रदा एकादशी भी बच्चों की लंबी उम्र और सुख समृद्धि के लिए रखा जाता है। इस दिन भगवान विष्णु जी के साथ भगवान शंकर की भी पूजा की जाती है। महिलाएं अपनी संतान को संकट से बचाने और उनके उज्जवल भविष्य के लिए व्रत रखती हैं। पौराणिक मान्यता है कि इस दिन व्रत रखने से संतान का स्वास्थ्य ठीक रहता है और जीवन खुशहाल बना रहता है।

संतान सप्तमी व्रत

भाद्रपद महीने के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को संतान सप्तमी का व्रत रखा जाता है। संतान सप्तमी व्रत को विधि-विधान करने और पूजा-अर्चना करने से संतान की प्राप्ति होती है। देश में अलग-अलग स्थानों पर संतान सप्तमी व्रत को ललिता सप्तमी, मुक्ताभरण सप्तमी और अपराजिता सप्तमी के नाम से भी जाना जाता है।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Sandeep Chourey

  • Font Size
  • Close