लीड्स। बेन स्टोक्स ने शानदार नाबाद शतक (135) लगाते हुए इंग्लैंड को रविवार को एशेज सीरीज के तीसरे टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलिया पर 1 विकेट से रोमांचक जीत दिलाई। इंग्लैंड ने चौथे दिन 359 रनों के रिकॉर्ड टारगेट को 125.4 ओवरों में 9 विकेट खोकर हासिल किया। इंग्लैंड ने टेस्ट क्रिकेट इतिहास में इतना बड़ा टारगेट इससे पहले कभी हासिल नहीं किया था। इसी के साथ इंग्लैंड ने पांच मैचों की सीरीज में 1-1 की बराबरी हासिल कर ली।

इंग्लैंड ने इससे पहले टेस्ट क्रिकेट में अपना सबसे बड़ा टारगेट 1928-29 में हासिल किया था जब उसने 7 विकेट पर 332 रन बनाकर मेलबर्न में ऑस्ट्रेलिया को हराया था। उसने अपने इस रिकॉर्ड को 91 साल बाद बेहतर किया।

इंग्लैंड ने टेस्ट क्रिकेट में हासिल किए बड़े टारगेट

359 वि. ऑस्ट्रेलिया - लीड्स 2019

332 वि. ऑस्ट्रेलिया - मेलबर्न 1928-29

315 वि. ऑस्ट्रेलिया - लीड्स 2001

305 वि. न्यूजीलैंड - क्राइस्टचर्च 1996-97

स्टोक्स जीत के शिल्पकार रहे क्योंकि मेजबान टीम ने दूसरी पारी में 286 रनों पर स्टुअर्ट ब्रॉड के रूप में नौवां विकेट गंवा दिया था, इसके बाद उन्होंने जैक लीच को साथ लेकर टीम की नैया को पार लगाया। उन्होंने लीच के साथ 10वें विकेट के लिए 76 रनों की अविजित भागीदारी की जिसमें लीच का योगदान मात्र 1 रन का रहा। लीच की इस मायने में तारीफ करनी होगी कि उन्होंने 17 गेंदों का सामना किया। स्टोक्स इस यादगार पारी में 219 गेंदों का सामना कर 11 चौकों और 8 छक्कों की मदद से 135 रन बनाकर नाबाद लौटे।

हेजलवुड की मेहनत पर पानी फिरा :

इससे पहले इंग्लैंड ने चौथे दिन सुबह 156/3 से आगे खेलना शुरू किया। कप्तान जो रूट 77 के निजी स्कोर पर नाथन लियोन के शिकार बने। वे अपने कल के स्कोर में मात्र 2 रन जोड़ पाए। इसके बाद स्टोक्स को जॉनी बेयरस्टो (36) का साथ मिला और उन्होंने पांचवें विकेट के लिए 86 रन जोड़े। हेजलवुड ने बेयरस्टो को लाबुशाने के हाथों झिलवाया। जोस बटलर 1 रन बनाकर रन आउट हुए जबकि हेजलवुड ने क्रिस वोक्स को वेड के हाथों झिलवाया। जोफ्रा आर्चर 15 रन बनाकर लियोन के शिकार बने। स्टुअर्ट ब्रॉड को तो जेम्स पैटिंसन ने खाता भी नहीं खोलने दिया। ऑस्ट्रेलिया की तरफ से हेजलवुड सर्वाधिक सफल गेंदबाज रहे, उन्होंने 4 विकेट लिए। उन्होंने मैच में कुल 9 विकेट लिए। उन्होंने पहली पारी में 30 रनों पर 5 विकेट लिए थे।

चौथी पारी में सफल चेज में 10वें विकेट के लिए दूसरी बड़ी साझेदारी :

स्टोक्स और जैक लीच ने दसवें विकेट के लिए 76 रनों की अविजित साझेदारी करते हुए टीम को 1 विकेट से जीत दिलाई। यह चौथी पारी में सफल चेज में 10वें विकेट के लिए टेस्ट क्रिकेट इतिहास की दूसरी बड़ी साझेदारी है। सबसे बड़ी साझेदारी का रिकॉर्ड श्रीलंका के कुशल परेरा और विश्वा फर्नांडो के नाम है जिन्होंने 2019 में डरबन टेस्ट में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अंतिम विकेट के लिए नाबाद 78 रनों की साझेदारी करते हुए टीम को यादगार जीत दिलाई थी।

संक्षिप्त स्कोर :

ऑस्ट्रेलिया : 179 और 246 रन।

इंग्लैंड : 67 और 362/9 (125..4 ओवर)।