दुबई। Ball Tampering: वेस्टइंडीज के क्रिकेटर निकोलस पूरन पर पिछले दिनों लखनऊ में अफगानिस्तान के खिलाफ तीसरे वनडे में गेंद से छेड़छाड़ करने के मामले में इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने बैन लगाया है। पूरन गेंद को रगडने के बाद नाखून से कुरेदते हुए कैमरे में कैद हुए थे। आईसीसी ने उन्हें चार टी20 मैचों के लिए बैन किया है।

24 वर्षीय पूरन के अनुशासनात्मक अकाउंट में 5 डिमैरिट अंक जोड़े जाएंगे। पूरन को आर्टिकल 2.1.4 की लेवल थ्री के उल्लंघन को दोषी पाया गया है। उन्हें चार निलंबन अंक दिए दए जो 5 डिमैरिट अंक में बदल गए। वेस्टइंडीज को अब अफगानिस्तान के खिलाफ तीन टी20 मैचों की सीरीज खेलनी है। वे इसके बाद भारत के खिलाफ टी20 सीरीज के पहले मैच में भी नहीं खेल पाएंगे।

मैदानी अंपायर बिस्मिल्लाह शिनवारी और अहमद दुर्रानी, थर्ड अंपायर अहमद पाकतिन और फोर्थ अंपायर इजतुल्लाह सैफी ने पूरन के खिलाफ चार्ज लगाया था। पूरन ने गलती और दंड स्वीकारा इसलिए आधिकारिक सुनवाई की आवश्यकता नहीं पड़ी।

ऐसे सामने आया था मामला :

पूरन को अफगानी पारी के 32वें ओवर में गेंद को जांघ पर रगड़ते हुए और फिर उसे नाखून से कुरेदते हुए कैमरे पर देखा गया। देखते ही देखते इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। क्रिकेट जगत अभी तक ऑस्ट्रेलिया के स्टीव स्मिथ, डेविड वॉर्नर और केमरान बेनक्रॉफ्ट के बॉल टैंपरिंग मामले को भूल नहीं पाया है। इस मामले की वजह से स्मिथ और वॉर्नर को एक-एक साल के लिए और बेनक्रॉफ्ट को 9 महीनों के लिए निलंबित किया गया था। पूरन 16 मैचों की 14 पारियों में 44.58 की औसत से 535 रन बना चुके हैं। उन्होंने इस दौरान 1 शतक और 3 अर्द्धशतक लगाया है।

सजा मिलने के बाद पूरन ने कहा, 'मैंने सोमवार को लखनऊ में जो अपराध किया उसको लेकर अपने साथी खिलाड़ियों, समर्थकों और अफगानी खिलाड़ियों से माफी मांगना चाहता हूं। मैं आपसे वादा करता हूं कि मैं मजबूती के साथ वापसी करूंगा।'

Posted By: Kiran Waikar