BCCI Action: भारतीय टीम के पूर्व विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा (Wriddhiman Saha) को धमकाने के मामले में BCCI ने कड़ी कार्रवाई की है। BCCI ने पत्रकार बोरिया मजूमदार पर 2 साल का बैन लगा दिया गया है। आपतो बता दें कि बोरिया मजूमदार ने साहा को इंटरव्यू नहीं देने पर बुरी तरह धमकाया था। साहा ने बिना उनका नाम लिए इस बारे में ट्वीट किया था। इसके बाद सभी ओर से जांच की मांग उठने लगी, तो BCCI ने इस पर संज्ञान लेते हुए मामले की छानबीन के लिए तीन सदस्यीय समिति गठित कर दी। इस समिति ने अपनी जांच में पत्रकार को दोषी पाया, जिसके बाद इस मशहूर खेल पत्रकार पर 2 सालों का बैन लगाया गया है।

क्या था मामला?

भारतीय टीम के पूर्व विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा को जब भारतीय टीम में नहीं शामिल किया गया, तो उन्होंने अपनी तकलीफ बताते हुए कुछ ट्वीट शेयर किये। इस दौरान कई पत्रकार उन पर इंटरव्यू के लिए दबाव बनाने लगे। इन्हीं में से एक मशहूर खेल पत्रकार बोरिया मजूमदार ने भी क्रिकेटर से संपर्क किया। लेकिन जब साहा ने इंटरव्यू से मना कर दिया तो पत्रकार ने उन्हें धमकाने की कोशिश की। साहा ने 19 फरवरी को एक ट्वीट किया, जिसमें बोरिया मजूमदार के वॉटसऐप मैसेज के कुछ स्क्रीनशॉट भी थे। उन्होंने ट्विटर पर लिखा था, ‘भारतीय क्रिकेट के लिए इतना कुछ करने के बाद मुझे एक सम्मानित पत्रकार की ओर से जो भी सुनना पड़ रहा है, ये वो बताने को काफी है कि हमारे देश की पत्रकारिता किस ओर जा रही है।’

उनके इस ट्वीट पर सभी ओर से प्रतिक्रिया आने लगी और पत्रकार के खिलाफ कार्रवाई की मांग होने लगी। वैसे उस वक्त साहा ने पत्रकार का नाम जाहिर नहीं किया था। लेकिन पूर्व भारतीय हेड कोच रवि शास्त्री और वीरेंद्र सहवाग समेत कई खिलाड़ियों ने उन्हें सार्वजनिक मंच पर उस पत्रकार का नाम बताने को कहा था। बाद में जब BCCI ने उनसे इस बारे में बातचीत की और जांच शुरु की तो उन्होंने पत्रकार का नाम बता दिया।

Posted By: Shailendra Kumar