नई दिल्ली (एजेंसियां)। इंग्लैंड में 30 मई से शुरू होने वाले विश्व कप में सपाट पिचें मिलने की उम्मीद है और वहां पर गेंदबाजों के लिए विकेट निकालना आसान नहीं होगा, लेकिन भारतीय तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार का मानना है कि टीम की गेंदबाजी इकाई किसी भी पिच पर प्रभाव डालने में सक्षम है। तेज गेंदबाजों में 29 वर्षीय भुवनेश्वर के अलावा मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह भी शामिल हैं।

भुवनेश्वर ने कहा - मैं सहमत हूं कि इंग्लैंड में कुछ वर्षों में पिचें सपाट हुई हैं, लेकिन विरोधी टीमें भारत की गेंदबाजी से सावधान रहेंगी। हम पारी कीशुरुआत और अंतिम में अच्छा कर सकते हैं। हमें मैच के दिन अपनी रणनीति को पूरी तरह से लागू करना होगा। हमारा प्रदर्शन बताएगा कि हमारी गेंदबाजी इकाई सर्वश्रेष्ठ है या नहीं। हमारी गेंदबाजी इकाई मजबूत होती जा रही है। हम कह सकते हैं कि हमारा गेंदबाजी आक्रमण किसी भी मैदान पर अपना प्रभाव छोड़ सकता है। मैंने अपनी फिटनेस में भी सुधार किया है।

टीम को संतुलित करता है अच्छा ऑलराउंडर - अमरनाथ

मुंबई। भारतीय क्रिकेट टीम ने साल 1983 में कपिल देव की कप्तानी में पहला विश्व कप अपने नाम कर इतिहास रचा था। उस विश्व कप में भारतीय टीम के ऑलराउंडर मोहिंदर अमरनाथ के योगदान को नहीं भुलाया जा सकता। उन्होंने गेंद और बल्ले से अच्छा प्रदर्शन किया था। कुछ उसी तरह से इस बार भी इंग्लैंड और वेल्स में होने वाले आईसीसी विश्व कप में भारतीय टीम की ऑलराउंडरों से अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद लगी होगी, जिसमें हार्दिक पांड्या, विजय शंकर और रवींद्र जडेजा शामिल हैं।

अमरनाथ ने कहा, अगर आपके पास दो-तीन अच्छे ऑलराउंडर होते हैं तो यह आपकी टीम को संतुलन प्रदान करता है। यह आपको एक अच्छा विकल्प देता है कि आप बाकी की कैसी टीम के साथ जाना चाहते हैं। सफेद गेंद के आस-पास बहुत कुछ सीम नहीं रही है और हम इंग्लैंड में कई हरे विकेट नहीं देख पाएंगे। संभवतः मौसम की भी भूमिका रहेगी। वैसे सभी कहते हैं कि एक संतुलन की जरूरत होती है। एक शानदार ऑलराउंडर जरूरी नहीं है कि वह चौथा ही गेंदबाज हो या पांचवां, वह तीसरा गेंदबाज भी हो सकता है जो नियमित रूप से गेंदबाजी कर सकता है। वह एक शीर्ष क्रम का बल्लेबाज हो तो टीम को संतुलित करता है।'

अमरनाथ ने कहा - कोई सात, कोई आठ, नौ या 10 नंबर पर कब बल्लेबाजी करने आ रहा है ये महत्वपूर्ण नहीं है, इसलिए मुझे लगता है कि आपको ऐसे खिलाड़ी की जरूरत है जो नंबर एक से छह तक बल्लेबाजी कर सके और 10 ओवर गेंदबाजी कर सके।