नई दिल्ली (एजेंसियां)। भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) इन दिनों अजीब परेशानी से जुझ रहा है। दरअसल कुछ खिलाड़ियों ने बोर्ड से शिकायत की है कि उन्हें अनजान नंबर से वॉट्स अप मैसेज आ रहे हैं। इसकी शिकायत बोर्ड की एंटी करप्शन यूनिट से भी की गई है। इन मैसेज में क्रिकेट में भ्रष्टाचार को लेकर बात कही गई है। मामला मैच फिक्सिंग से जुड़ा होने कारण इन मैसेज के बाद बोर्ड में हलचल मची हुई है।

BCCI की एंटी करप्‍शन यूनिट के चीफ अजीत सिंह के मुताबिक तमिलनाडु प्रीमियर लीग में खेल रहे कुछ खिलाड़ियों के पास अनजान नंबर से वॉट्सएप मैसेज आए। चूंकि मैसेज में भ्रष्टाचार को लेकर बातें कही गई लिहाजा इस मामले की गंभीरता को लिया जा रहा है। हम उन मैसेज की पड़ताल कर रहे हैं, साथ ही उन नंबरों को भी ट्रैक करने की कोशिश कर रहे हैं जिनसे ये मैसेज आए। इसके अलावा जिन खिलाड़ियों के पास ये मैसेज पहुंचे हैं उनके बयान भी लिए जा रहे हैं।

भ्रष्टाचार का आरोप

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इन मैसेज की शिकायत के बाद एंटी करप्‍शन यूनिट इस मामले में एक भारतीय खिलाड़ी, आईपीएल का नियमित खिलाड़ी और एक रणजी ट्रॉफी टीम के कोच के खिलाफ जांच शुरू की गई है।उनके ऊपर तमिलनाडु प्रीमियर लीग में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार करने का आरोप है। दरअसल मामला मैच फिक्सिंग से जुड़ा हुआ है।

पैसों के बंटवारे को लेकर हुआ विवाद

जानकारी के मुताबिक जो मैसेज खिलाड़ियों को भेजे गए हैं वो विवाद के बाद भेजे गए। बताया जा रहा है कि तमिलनाडु प्रीमियर लीग के दौरान कुछ सट्टेबाजों ने खिलाड़ियों से संपर्क किया था। कुछ मैच फिक्स होने की बात बात सामने आई है। मामले की जांच में ये बात सामने आई कि मैच फिक्सिंग के जरिए मिले पैसों के बंटवारे को लेकर विवाद हुआ, जिसके बाद मामले का खुलासा हुआ।

यूनिय अब खिलाड़ियों से पूरे मामले को लेकर पूछताछ कर रही है। अजीत सिंह ने कहा कि यूनिट लीग की टीमों के मालि‌कों से भी पूछताछ करेगी। यूनिट इस मामले में कानूनी भी मदद ले रही है। मामले की गंभीरता को देखते हुए आने वाले दिनों में पुलिस में एफआईआर भी दर्ज करा सकती है।

गौरतलब है कि तमिलनाडु प्रीमियर लीग में 8 टीमें खेलती हैं। लीग का सेंटर चेन्नई का चेपक स्टेडियम है। इस लीग का शुभारंभ 4 साल पहले पूर्व भारतीय कप्तान एमएस धोनी ने किया था। इस लीग में आर अश्विन, मुरली विजय, विजय शंकर, दिनेश कार्तिक जैसे स्टार खिलाड़ी भी खेलते हैं।