लंदन। आईसीसी ने महेंद्र सिंह धोनी के ग्लव्स को लेकर बनीं विवाद की स्थिति पर बीसीसीआई की अपील रद्द कर दी है। आईसीसी ने धोनी के बलिदान बैज लगे ग्लव्स पहनने को नियम का उल्लंघन मानते हुए कहा कि धोनी के इस तरह के ग्लव्स पहनने की इजाजत नहीं है क्योंकि वे नियम के तहत नहीं है। उधर बीसीसीआई ने आईसीसी के इन निर्देशों को मान लिया है। फिलहाल अब धोनी अगले मैचों से बलिदान बैज लगे ग्ल्वस नहीं पहन पाएंगे।

बता दें कि आईसीसी ने बीसीसीआई की अपील पर कहा था कि धोनी के बलिदान बैज को लेकर पुनर्विचार किया, लेकिन पाया कि ये नियम के तहत नहीं है। धोनी ने इंग्लैंड में चल रहे क्रिकेट वर्ल्ड कप में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले मैच में ऐसा ग्लव्स पहना था जिस पर बलिदान बैज अंकित था। इसे लेकर आईसीसी ने आपत्ति दर्ज कराई थी और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच में उन्हें इसे हटाने का निर्देश दिया था।

इसके बाद धोनी के पक्ष में सोशल मीडिया में जमकर माहौल बना था। बीसीसीआई भी खुलकर धोनी के पक्ष में आ गया था। बीसीसीआई प्रशासकों की समिति के प्रमुख विनोद राय ने बताया कि इस बलिदान बैज से आईसीसी के किसी नियम का उल्लंघन नहीं हो रहा है और बीसीसीआई ने इसकी अनुमति के लिए गुजारिश की थी।

आईसीसी ने भी बीसीसीआई द्वारा पुनर्विचार करने की अपील को माना, लेकिन बलिदान बैज को नियमों के विपरित माना। गौरतलब है कि आईसीसी के नियमों के तहत खेल के दौरान ऐसी किसी गतिविधि, बैज, कामों को बिल्कुल बढ़ावा नहीं दिया जाता जिनसे किसी तरह के कोई रंगभेदी, धार्मिक या राजनितिक संदेश जाते हों। आईसीसी ने धोनी को इन ग्लव्स को इस नियम के विरुद्ध माना है।

इससे पहले बीसीसीआई की प्रशासकों की समिति के प्रमुख विनोद राय ने कहा, बीसीसीआई पहले ही इस मामले मे आईसीसी को अनुमति के लिए गुजारिश कर चुका था। आईसीसी के नियमों के मुताबिक कोई खिलाड़ी कमर्शियल, धार्मिक या सेना का लोगो अपने कपड़ों या उपकरणों पर इस्तेमाल नहीं कर सकता है। यह लोगो कमर्शियल या धार्मिक नहीं है और यह पैरा मिलेट्री का बैज भी नहीं है, इसलिए धोनी ने किसी नियम का उल्लंघन नहीं किया है।

बीसीसीआई के वरिष्ठ पदाधिकारी राजीव शुक्ला के मुताबिक, बीसीसीआई ने आईसीसी से कहा है कि इस बैज का इस्तेमाल कमर्शियल रूप नहीं बल्कि भारतीय सैनिकों के प्रति सम्मान के रूप में किया जा रहा है, इसलिए इसे नहीं हटाया जाए।

पाकिस्तान के मंत्री ने धोनी पर साधा निशाना

पाकिस्तान के विज्ञान और प्रौधिगिकी मंत्री फवाद चौधरी ने ट्वीट कर धोनी पर निशाना साधा। उन्होंने लिखा, धोनी इंग्लैंड में क्रिकेट खेलने गए हैं ना कि महाभारत के लिए। भारतीय मीडिया मूर्खतापूर्ण बहस कर रहा है। यदि भारतीय मीडिया के एक धड़े को युद्ध से इतना प्यार है तो उन्हें सीरिया, अफगानिस्तान या रवांडा भेज देना चाहिए।