नई दिल्ली (एजेंसियां)। भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) में सौरव गांगुली के अध्यक्ष बनने के साथ ही कई अन्य बदलाव भी होंगे। बोर्ड की प्रमुख नियुक्तियों में बड़े पैमाने पर परिवर्तन होने के संकेत मिले। माना जा रहा है कि पूर्व कलात्मक बल्लेबाज दिलीप वेंगसरकर टीम इंडिया के मुख्य चयनकर्ता बन सकते हैं। वे पूर्व विकेटकीपर एमएसके प्रसाद का स्थान ले सकते हैं क्योंकि उनका कार्यकाल समाप्त होने वाला है।

बता दें कि 1983 की वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्य वेंगसरकर पूर्व में भी चयनकर्ता रह चुके हैं। वे 2006 से 2008 तक सीनियर चीफ सिलेक्टर रहे थे। अपने कार्यकाल में वेंगसरकर उस समय से सुर्खियों में आए जब वे विराट कोहली को राष्ट्रीय टीम में शामिल करने पर अड़ गए थे। तब वे तत्कालीन कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और हेड कोच गैरी कर्स्टन के खिलाफ भी खड़े हो गए थे। वेंगसरकर उस समय कृष्णमाचारी श्रीकांत की जगह चयनकर्ता बने थे। साल 2008 में वेंगसरकर चाहते थे कि श्रीलंका के खिलाफ दौरे के लिए विराट को टीम में शामिल किया जाए, लेकिन धोनी और कर्स्टन उस समय नहीं चाहते थे विराट टीम में आए। वे चाहते थे विराट कुछ समय और घरेलू क्रिकेट में बिताए। लेकिन वेंगसरकर ने एस बद्रीनाथ के स्थान पर विराट को टीम में शामिल किया।

फिलहाल बता दें कि वर्तमान चीफ सिलेक्टर एमएसके प्रसाद का कार्यकाल जल्द खत्म होने वाला है। ऐसे में वेंगसरकर के नाम पर सभी की सहमति बन सकती है। बताया जा रहा है कि बोर्ड के कई सदस्य उनके नाम पर सहमति जता चुके हैं। वहीं चयन समिति के दूसरे सदस्यों शरणदीप सिंह, जतिन परांजपे और देबांग गांधी का कार्यकाल 2020 तक है। प्रसाद की अध्यक्षता वाली चयन समिति को उस समय आलोचना का शिकार होना पड़ा जब वर्ल्ड कप के लिए चुनी गई टीम में अंबाती रायुडू को शामिल नहीं किया गया था। 23 अक्टूबर को बोर्ड की एजीएम में बोर्ड अध्यक्ष के साथ ही नई सिलेक्शन कमेटी की घोषणा होगी। इसी दिन सौरव गांगुली को अध्यक्ष बनाने की औपचारिक घोषणा की जाएगी।

Posted By: Rahul Vavikar