कोलकाता। महेंद्रसिंह धोनी वर्ल्ड कप के बाद से ही भारतीय टीम से बाहर चल रहे हैं और उनके इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास को लेकर कई बार अटकलें लगाई जाती रही हैं। बीसीसीआई अध्यक्ष बनने जा रहे सौरव गांगुली के धोनी के भविष्य को लेकर अब बड़ा बयान दिया है। गांगुली 23 अक्टूबर को बीसीसीआई प्रमुख बनेंगे। वे इसके अगले दिन यानी 24 अक्टूबर को सिलेक्टर्स से बात करेंगे और इस बारे में धोनी से भी चर्चा करेंगे, इसके बाद भी अपनी राय प्रकट कर पाएंगे।

भारत को वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के हाथों हार का सामना करना पड़ा था। उस मैच के बाद से धोनी ने कोई इंटरनेशनल मैच नहीं खेला है। अब बांग्लादेश के खिलाफ होने वाली घरेलू टी-20 सीरीज में भी उनके खेलने की उम्मीद नहीं है। बांग्लादेश के खिलाफ तीन टी-20 मैचों की सीरीज के लिए भारतीय टीम की घोषणा 24 अक्टूबर को होगी। अब तक धोनी ने संन्यास की घोषणा नहीं की है, ऐसे में अब चयनकर्ताओं के पास अगले साल होने वाले टी-20 विश्व कप को लेकर विचार करने का समय है।

धोनी के भविष्य के बारे में पूछे जाने पर गांगुली ने कहा, मैं सिलेक्टर्स से इस पर चर्चा करूंगा। हम जानने की कोशिश करेंगे कि सिलेक्टर्स क्या सोचते हैं और इसके बाद मैं अपनी राय दूंगा। मैं धोनी से भी जानना चाहूंगा कि वे क्या चाहते हैं। चूंकि मैं अभी तक बोर्ड से नहीं जुड़ा हुआ था, इसलिए शायद यह मामला मेरे सामने स्पष्ट नहीं था। अब मैं यह पता लगाने की स्थिति में रहूंगा और फिर आगे का रास्ता तय कर सकूंगा।

गांगुली ने स्पष्ट किया कि वह 23 अक्टूबर को एजीएम में कार्यभार संभालने के बाद चयनकर्ताओं और भारतीय टीम के कप्तान से बात करेंगे। पहले चयनकर्ताओं की बैठक 21 अक्टूबर को होनी थी लेकिन अब यह 24 अक्टूबर को होगी। इस बैठक के दौरान देवधर ट्रॉफी के लिए भारत-ए, बी और सी टीमों का भी चयन किया जाएगा। नए संविधान के अनुसार इस बैठक में कोच (रवि शास्त्री) नहीं होंगे।

यह पूछे जाने पर कि क्या कपिल देव के नेतृत्व वाले क्रिकेट सलाहकार समिति (CAC) की वैधता के संबंध में सवाल उठने के बाद से रवि शास्त्री की नियुक्ति चर्चा के अधीन होगी तो गांगुली ने कहा कि मुझे नहीं लगता कि इससे रवि शास्त्री का चयन खतरे में होगा। गांगुली ने यह भी कहा कि देवांग गांधी और जतिन परांजपे सिलेक्टर के तौर अपना काम जारी रखेंगे। गांगुली नेपहले ही आईपीएल की टीम दिल्ली कैपिटल्स से इस्तीफा दे दिया है लेकिन वे एमसीसी बोर्ड के सदस्य के रूप में बने रहेंगे। आईसीसी में बीसीसीआई के प्रतिनिधित्व के बारे में गांगुली ने कहा कि इसका निर्णय सर्वोच्च परिषद द्वारा किया जाएगा।

Posted By: Kiran Waikar