ICC on Champions Trophy : अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) ने साल 2025 में खेली जाने वाली चैंपियन्स ट्रॉफी की मेजबानी पाकिस्तान को सौंपी है, लेकिन इसके सफल आयोजन पर अभी से सवाल उठने लगे हैं। 1996 विश्व कप के बाद इस देश में आईसीसी का यह पहला वैश्विक आयोजन होगा। लाहौर में श्रीलंकाई टीम की बस पर हुए आतंकवादी हमले के बाद से पाकिस्तान कई अंतरराष्ट्रीय टीमों की मेजबानी नहीं कर पाया है। भारत समेत बहुत से देश विभिन्न कारणों से वहां जाने में हिचकते हैं। इस साल सितंबर में न्यूजीलैंड और इंग्लैंड, सुरक्षा चिंताओं के कारण अंतिम समय में पाकिस्तान दौरे को रद्द पर वापस लौट गये थे। हाल ही में भारतीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने भी सुरक्षा कारणों का हवाला देकर भारतीय टीम के वहां जाने पर शंका व्यक्त की थी। इसके बावजूद ICC इस बात को लेकर आश्वस्त है कि पाकिस्तान में आयोजित टूर्नामेंट में हिस्सा लेने सभी देशों की टीमें जाएंगी।

ICC के अध्यक्ष ग्रेग बार्कले ने न्यूज एजेंसी पीटीआई-भाषा के इससे जुड़े सवाल के जवाब में कहा कि इसका जवाब हां है, हम अब तक जो देख रहे हैं उसके मुताबिक बिल्कुल हां (टीमें यात्रा करेंगी)। आईसीसी के अध्यक्ष जॉर्ज बार्कले ने कहा, "पिछले कुछ वर्षों से पाकिस्तान में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेला जा रहा है। अगर हमें उनकी क़ाबिलियत पर कोई शक़ होता हम उन्हें आयोजन की ज़िम्मेदारी देते ही नहीं। हमें लगता है कि यह उनके लिए एक लंबे समय बाद किसी वैश्विक टूर्नामेंट की मेज़बानी करने का रोमांचक अवसर है। मुझे यक़ीन है कि, सभी देशों की तरह, वे इस आयोजन को अंजाम देने के लिए उपयुक्त सुरक्षा योजनाएं तैयार करेंगे। हम सहज हैं और आश्वस्त हैं कि यह आयोजन आगे बढ़ेगा।"

पाकिस्तान को 2008 में चैंपियंस ट्रॉफ़ी की मेज़बानी करनी थी, लेकिन उस समय देश में बिगड़ती सुरक्षा स्थिति के कारण इस आयोजन को स्थगित कर दिया गया था। मार्च 2009 में लाहौर में श्रीलंकाई टीम पर हुए हमलों के बाद काफ़ी समय तक देश में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट का आयोजन नहीं हुआ। साथ ही पाकिस्तान को 2011 वनडे विश्व कप की सह-मेज़बानी से हाथ धोना पड़ा। हालांकि पिछले कुछ वर्षों में स्थिति बेहतर हो गई है जिसके बाद वेस्टइंडीज़, श्रीलंका, बांग्लादेश, ज़िम्बाब्वे और साउथ अफ़्रीका ने पाकिस्तान का दौरा किया है। साथ ही कई विदेशी खिलाड़ी पाकिस्तान सुपर लीग का हिस्सा बने हैं।

इन सबके बीच जो चीज़ आईसीसी के नियंत्रण से बाहर होगी वह है भारतीय टीम का पाकिस्तान जाने का फैसला करना। भारत के खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा था कि इस टूर्नामेंट में भारत की भागीदारी पर आख़िरी फ़ैसला भारत सरकार लेगी। बार्कले ने इसे स्वीकार करते हुए कहा कि वह इस पर कुछ नहीं कर सकते हैं। पाकिस्तान में भारत का अंतिम मैच 2008 एशिया कप के दौरान हुआ था। वैसे, पाकिस्तान भारत में 2011 वनडे विश्व कप के साथ-साथ 2016 का टी20 विश्व कप भी खेल चुका है।

Posted By: Shailendra Kumar