नई दिल्ली। भारत के पूर्व कप्तान विराट कोहली ने कहा कि इंग्लैंड और वेल्स में 30 जुलाई से होने वाले वर्ल्ड कप में गेंदबाजों की अहम भूमिका रहेगी। उन्होंने कहा कि बेजान पिचों पर रनों का अंबार लगेगा इसलिए वो टीमें लाभ की स्थिति में रहेगी जिनके गेंदबाज अच्छा प्रदर्शन करेंगे।

द्रविड़ ने अपने खेल में लगातार सुधार कर बेहतर प्रदर्शन की विराट की खासियत की सराहना की। उन्होंने कहा कि विराट की विशेषता यह है कि यदि किसी देश का उनका पहला दौरा खराब रहा हो तो वे दूसरी बार शानदार प्रदर्शन कर उसे सफल बना लेते हैं। ऑस्ट्रेलिया का उनका पहला दौरा इतना सफल नहीं रहा था। इंग्लैंड का 2014 का उनका दौरा तो निराशाजनक रहा था लेकिन पिछले साल उन्होंने इंग्लैंड में शानदार खेल दिखाया।

विराट लगातार अपने प्रदर्शन में सुधार के लिए प्रयत्नशील रहते हैं। उन्होंने कड़ी मेहनत से उंचे मापदंड स्थापित कर दिए हैं। वे ऐसी सफलताएं हासिल करने की तरफ बढ़ रहे हैं जो कोई हासिल नहीं कर पाया है। सचिन ने वनडे में 49 शतक बनाए थे। लोगों को लगता था कि कोई उनके रिकॉर्ड तक पहुंच पाएगा क्या लेकिन विराट उनके इस कीर्तिमान के करीब पहुंच रहे हैं। विराट ने खुद को ऐसा बना लिया है जहां वे निरंतर अपने खेल में सुधार कर रहे हैं।

भारत ए के कोच द्रविड़ ने कहा, इंग्लैंड में मैचों में बड़े स्कोर बनेंगे। इसके चलते वे टीमें सफल होंगी जिनके गेंदबाज शानदार प्रदर्शन करेंगे। ऐसी परिस्थितियों में मध्य ओवरों में विकेट लेने वाली टीम लाभ की स्थिति में रहेगी और भारत भाग्यशाली है कि उसके पास जसप्रीत बुमराह, कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल जैसे गेंदबाज मौजूद हैं। इसके चलते भारत विपक्षी टीम को बड़ा स्कोर बनाने से रोक सकता है।

द्रविड़ ने महेंद्रसिंह धोनी की तारीफ कर उन्हें बड़े टूर्नामेंट्स और बड़े मैचों का खिलाड़ी बताया। उन्होंने कहा कि धोनी का इन बड़े मैचों में हमेशा प्रदर्शन शानदार रहता है और इन मैचों में कमाल का प्रदर्शन करने की उनकी काबिलियत की कोई जोड़ नहीं है।

Posted By: Kiran Waikar