दुबई। इंग्लैंड के हाथों आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 के फाइनल में मिली दिल तोड़ने वाली हार के दो महीने बाद न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियम्सन ने कहा कि उनकी पूरी टीम अभी भी इस मैच के बारे में सोचती रहती हैं।

वर्ल्ड कप फाइनल मुकाबला निर्धारित 50-50 ओवरों के बाद और सुपर ओवर के बाद टाई रहा। इसके बाद इंग्लैंड को बाउंड्री काउंट नियम के आधार पर इंग्लैंड को वर्ल्ड चैंपियन घोषित किया गया। इंग्लैंड ने मैच में ज्यादा बाउंड्रीज लगाई थी जिसकी वजह से वह विजेता बना।

इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने विलियम्सन के हवाले से बताया- 'लगभग हर दिन हमारे खिलाड़ियों के बीच उस मैच (वर्ल्ड कप फाइनल) को लेकर कुछ न कुछ बात तो होती ही है। खिलाड़ी अभी भी उसके बारे में सोचते हैं और खुद को समझाने की कोशिश करते हैं। यह मैच जिस तरह खेला गया और जैसा इसका परिणाम निकला, उसे लेकर हमेशा याद रखा जाएगा। इसके बारे में बात की जाती रहेगी।'

न्यूजीलैंड ने फाइनल में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 241 रन बनाए। इसके बाद बेन स्टोक्स ने जोरदार प्रदर्शन कर मैच को टाई करवाया। इंग्लैंड को जीत के लिए 9 रन चाहिए थे, ऐसे में मार्टिन गप्टिल ने बाउंड्री से थ्रो किया और गेंद स्टोक्स के बल्ले से लगकर बाउंड्री के बाहर निकल गई। इंग्लैंड को इस गेंद पर 6 रन (दो रन दौड़ने और 4 ओवरथ्रो) दिए गए। इसके बाद विवाद तब हुआ जब पूर्व अंपायर साइमन टफैल ने कहा कि अंपायरों को कुल 5 रन ही देने चाहिए थे क्योंकि जब गप्टिल ने थ्रो किया था तब बल्लेबाजों ने दूसरे रन के दौरान एक-दूसरे को क्रॉस नहीं किया था।

इसके बावजूद विलियम्सन ने अंपायरों को आलोचना करने से इंकार कर दिया और कहा कि वे ऐसे रोमांचक मैच का हिस्सा बनकर खुश हैं। उन्होंने कहा, 'ऐसे मैच के साथ हर कोई जुड़ना चाहेगा और इस मैच का महत्व इसलिए और ज्यादा बढ़ गया क्योंकि यह वर्ल्ड कप फाइनल था।' फाइनल के बाद ऐसी स्थिति में संयम बनाए रखने के लिए विलियम्सन की हर किसी ने तारीफ की। उन्हें न्यूजीलैंडर ऑफ द इयर अवॉर्ड के लिए नामित भी किया गया।