वॉशिंगटन (एजेंसी)। इंग्लैंड में हुए आईसीसी क्रिकेट विश्व कप 2019 में पाकिस्तान की टीम ग्रुप स्टेज से आगे नहीं बढ़ पाई। इसके बाद पाकिस्तानी टीम को कड़ी आलोचना का सामना करना पड़ा। अब ऐसे संकेत मिले हैं कि टीम में बड़े पैमाने पर फेरबदल होगा। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी दावा किया कि अगले विश्व कप तक वे पाकिस्तानी टीम को काफी मजबूत बना देंगे।

वर्ल्ड कप में पाकिस्तान टीम लीग मैचों से ही बाहर हो गई। उसने वर्ल्ड कप के 9 मैचों में से 5 मैच जीते और 3 मैच हारे, जबकि एक मैच वॉश आउट हुआ। वह 11 अंकों के साथ तालिका में पांचवें स्थान पर रही थी। पाकिस्तान के लिए सबसे बड़ा झटका भारत से मिली हार रही और उसका भारत के खिलाफ हारने का रिकॉर्ड बरकरार रहा। अब पाकिस्तानी क्रिकेट टीम को उबारने का जिम्मा देश के प्रधानमंत्री और पूर्व कप्तान इमरान खान ने उठाया है। पाकिस्तान ने एकमात्र विश्व कप खिताब इमरान की कप्तानी में ही जीता था। इमरान ने अब दावा किया कि अगले विश्व कप तक पाकिस्तान की क्रिकेट टीम को मजबूत बना देंगे।

इमरान ने रविवार को वाशिंगटन में पाकिस्तानियों को संबोधित करते हुए कहा- मैं जब इंग्लैंड गया तो मैंने वहां क्रिकेट खेलना सीखा। जब हम वापस आए तो हमने अन्य खिलाड़ियों के स्तर को भी बढ़ा दिया। विश्व कप के बाद मैंने निर्णय लिया है कि मैं इस पाकिस्तान क्रिकेट टीम को ठीक करूंगा। सभी देखेंगे कि हमारी टीम अगला विश्व कप बेहद पेशेवर तरीके से खेलेगी और हमारी टीम बहुत श्रेष्ठ नजर आएगी और खिताब की दावेदार भी होगी। हम सिस्टम ठीक करेंगे और नई प्रतिभाओं के साथ मैदान में उतरेंगे।

धोनी नहीं लेंगे संन्यास, खेल सकते हैं टी20 वर्ल्ड कप !

महेला जयवर्धने ने जताई भारतीय टीम के कोच बनने की इच्छा, ये पूर्व खिलाड़ी भी दौड़ में

ये युवा विकेटकीपर बल्लेबाज भी टेस्ट टीम का बड़ा दावेदार, जल्द ही दिखाई देगा टीम में

विश्‍व कप में रिषभ और मयंक को भेजने पर हुआ था विवाद, अब स्थिति हुई साफ

बता दें कि वर्ल्ड कप को लेकर इमरान खान ने काफी रूचि ली थी। भारत के खिलाफ अपनी टीम के मैच से पहले इमरान ने ट्वीट कर पाकिस्तानी कप्तान सरफराज अहमद को सलाह दी थी टॉस जीतने पर वे पहले बल्लेबाजी करें, लेकिन सरफराज ने टॉस जीतकर गेंदबाजी चुनी थी और मैच हारा था। इसके लिए सरफराज की काफी आलोचना हुई थी।

सरफराज की कप्तानी में पाकिस्तान ने साल 2017 में आईसीसी चैंपियन ट्रॉफी जीती थी। फाइनल में उसने भारत को 180 रन से हराया था। इसके बाद से पाकिस्तान की टीम बेहद खराब दौरे से गुजरी और उसे लगातार हार का सामना करना पड़ा।