IND vs ENG 5th Test: भारत और इंग्लैंड के बीच पांचवां टेस्ट मैच नहीं हो सका। इसका सबसे बड़ा कारण रही कोरोना महामारी। भारतीय खेमे में एक-एक कर सपोर्टिंग स्टाफ के सदस्य कोरोना पॉजिटिव निकल रहे थे। भारत के साथ ही इंग्लैंड के खिलाड़ियों की सुरक्षा को देखते हुए तय हुआ कि यह मैच अभी नहीं खेला जाना चाहिए। ब्रिटिश मीडिया के साथ ही वहां के पूर्व खिलाड़ी इस पर भड़के हुए हैं। इंग्लैंड के पूर्व कप्तान और बल्लेबाज नासिर हुसैन ने बड़ा आरोप लगाया है। नासिर हुसैन का कहना है कि बीसीसीआई ने IND vs ENG 5th Test नहीं खेला ताकि उसके खिलाड़ी आईपीएल में हिस्सा ले सकें। बता दें, कोरोना के कारण भारत में आईपीएल पूरा नहीं हो सका था और अब बचे हुए मैच यूएई में 19 सितंबर से खेले जाने हैं।

नासिर हुसैन का मानना ​​​​है कि बीसीसीआई को यह डर सता रहा था कि मैनचेस्टर टेस्ट होता है तो उसके खिलाड़ी भी कोरोना पॉजिटिव हो सकते हैं। ऐसे में यदि आईपीएल नहीं हुआ तो बीसीसीआई को भारी घाटा उठाना पड़ जाता। खिलाड़ी भी इनमें शामिल हैं, क्योंकि वे भी आईपीएल में हिस्सा लेना चाहते हैं। आईपीएल पर इस साल के शुरू में पहले ही कोरोना की चोट पड़ चुकी है। खिलाड़ियों को भी चिंता थी कि यदि यहां उन्हें कोरोना हो गया तो वे आईपीएल नहीं खेल पाएंगे।

इंग्लिश मीडिया ने भी भारत पर लगाए आरोप

इस बीच, अंग्रेजी मीडिया ने भी भारतीय खिलाड़ियों के खिलाफ कुछ गंभीर आरोप लगाए हैं और मुख्य कोच रवि शास्त्री को बायो-बबल उल्लंघन के लिए फटकार लगाई है। डेली मेल ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है, अगर एक भी खिलाड़ी की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव नहीं आई है तो भारत ने खेलने से इनकार क्यों किया है? कारण साफ है- भारत के खिलाड़ी 19 सितंबर से संयुक्त अरब अमीरात में इंडियन प्रीमियर लीग के लिए बेताब हैं। यह सब पहले से तय था, यही कारण है कि टीम ने प्रैक्टिस भी नहीं की।

Posted By: Arvind Dubey