IND vs NZ Mumbai Test: भारत ने मुंबई टेस्ट में न्यूजीलैंड को 372 रन से हरा दिया है। इस तरह भारत ने दो टेस्ट मैचों की सीरीज 1-0 से जीत ली। कानपुर में खेला गया पहला टेस्ट ड्रा रहा था। मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेले गए इस मैच में भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 325 रन बनाए थे। जवाब में न्यूजीलैंड की पूरी टीम महज 62 रन पर आउट हो गई थी। भारत ने फिर बल्लेबाजी की और दूसरी पारी में 7 विकेट खोकर 276 रन बनाए और पारी घोषित कर दी। इस तरह न्यूजीलैंड को 540 रनों का लक्ष्य मिला था। तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक मेहमान टीम ने पांच विकेट खोकर 140 रन बना लिए थे। आज सुबह के स्तर में बाकी विकेट धराशाही हो गए। न्यूजीलैंड की दूसरी पारी भी सिर्फ 167 रन पर सिमट गई। इस तरह भारत ने 372 रन के बडे़ अंतराल से जीत दर्ज कर ली। (पूरा स्कोर कार्ड देखने के लिए यहां क्लिक करें)

टेस्ट क्रिकेट में रनों के हिसाब से भारत की सबसे बड़ी जीत

रनों के हिसाब से यह टेस्ट क्रिकेट में भारत की सबसे बड़ी जीत है। इससे पहले टीम इंडिया ने 2015 में दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान में दक्षिण अफ्रीका को 337 रनों से हराया था।

Mumbai Test: मैन ऑफ द मैच, मैन ऑफ द सीरीज

मैच में मैन ऑफ द मैच चुनना मुश्किल फैसला रहा, क्योंकि बल्लेबाजों में जहां मयंक अग्रवाल ने दोनों पारियों में शानदार रन बनाए वहीं अश्विन ने दोनों पारियों में अपना असर दिखाया। आखिीर में मयंक अग्रवाल को मैन ऑफ द मैच घोषित किया गया। उन्होंने पहली पारी में 150 तो दूसरी पारी में 62 रन बनाए। अश्विन ने मैच में 42 रन देकर 8 विकेट लिए। पारी में बिना पांच विकेट लिए यह दुनिया का दूसरा श्रेष्ठ प्रदर्शन हैं। इससे पहले 2002 में शेन वार्न ने पाकिस्तान के खिलाफ शाहजाह टेस्ट में 24 रन देकर 8 विकेट लिए थे। अश्विन को मैन ऑफ द सीरीज चुना गया।

IND vs NZ Mumbai Test: जानिए मैच का हाल

अब दक्षिण अफ्रीका दौरे पर रवाना होगी टीम इंडिया, NZ पर जीत के बाद Virat Kohli ने कही यह बात

मैच के बाद विराट कोहली ने कहा, कप्तान के रूप में जीत के साथ वापसी करना एक शानदार एहसास है। पहला टेस्ट मैच भी अच्छा था, यह बेहतर था। हमने उन क्षेत्रों पर चर्चा की, जिन पर हम सुधार कर सकते हैं। पहले टेस्ट में विपक्ष ने अच्छा ड्रॉ मैच खेला और पिच गेंदबाजों को पांचवें दिन मदद नहीं कर रही थी, जैसा कि आप उम्मीद करते हैं। यहां की पिच थोड़ी ज्यादा थी, ज्यादा दबाव बनाने में सक्षम थी, वह भी इसलिए क्योंकि वहां गति और उछाल ज्यादा थी। कुल मिलाकर वानखेड़े की पिच ने अच्छा क्रिकेट खेलने का मौका दिया। हम सभी भारतीय क्रिकेट की सेवा कर रहे हैं, पिछले प्रबंधन ने बहुत अच्छा काम किया था, अब राहुल भाई के आने से मानसिकता वही है। भारतीय क्रिकेट को आगे ले जाने के लिए। दक्षिण अफ्रीका में यह एक अच्छी चुनौती है। हमें विश्वास है कि हम कहीं भी जीत सकते हैं।

मुंबई टेस्ट में जीत पर कोच राहुल द्रविड़ की प्रतिक्रिया

बतौर कोच यह राहुल द्रविड़ की पहली टेस्ट सीरीज थी। जीत के बाद राहुल द्रविड़ ने कहा, सीरीज को जीत के साथ खत्म करना अच्छा रहा। कानपुर में हम जीत के करीब आए थे। यह परिणाम एकतरफा लगता है, लेकिन सच यह है कि सीरीज जीतने के लिए हमने कड़ी मेहनत की। कुछ ऐसे मौके आए जहां हम पीछे थे और हमें वापसी के लिए लड़ना पड़ा, इसका श्रेय टीम को जाता है। लड़कों को आगे बढ़ते हुए और अपने अवसरों का लाभ उठाते हुए देखकर अच्छा लगा। हमें कुछ सीनियर खिलाड़ियों की कमी खल रही थी। जयंत का कल का दिन मुश्किल था, लेकिन आज से सीखा। मयंक, श्रेयस, सिराज, जिन्हें ज्यादा मौके नहीं मिलते। अक्षर ने बल्ले से भी कलाम किया, यह देखकर बहुत अच्छा लगा। यह हमें बहुत सारे विकल्प भी देता है, हमें एक मजबूत पक्ष बनने में मदद करता है।

Posted By: Arvind Dubey