पुणे (एजेंसियां)। भारत के सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल अपने खेल से सभी को प्रभावित कर रहे हैं। टीम में ही उनकी फैन फॉलोइंग बढ़ रही है। मयंक ने टीम के अपने साथी खिलाड़ी और कलात्मक बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा को भी काफी प्रभावित किया है। पुजारा ने मयंक की सफलता का राज खोला है। उन्होंने बताया कि मयंक कैसे बड़ी पारियां खेलते जा रहे हैं।

पुणे टेस्ट में पहले दिन का खेल समाप्त होने पर पुजारा ने बताया कि मयंक ने घरेलू क्रिकेट में 2017 में एक ही सत्र में 1000 रन पूरे किए थे। पुजारा ने बताया - मयंक ने बड़ी पारियां खेलने का हुनर घरेलू क्रिकेट से ही सीखा है।मयंक को घरेलू क्रिकेट का काफी अनुभव हो गया है। उन्होंने प्रथम श्रेणी में काफी रन बनाए हैं। 90 के पास पहुंचने पर नर्वस होने के मामले में मयंक निर्भीक हैं। उन्हें पता है कि अर्द्धशतक को शतक और शतक को और बड़ी पारी में कैसे बदलना है।

पुजारा खुद भी बड़ी पारियां खेलने में माहिर हैं। ऐसे में मयंक के साथ साझेदारी के दौरान उन्हें क्या टिप्स दिए, इस बारे में पूछे जाने पर पुजारा ने कहा - उनकी बल्लेबाजी ने मुझे बहुत प्रभावित किया। सच कहूं तो मुझे उन्हें ज्यादा कुछ बताना नहीं पड़ा। मैंने एक दो बार देखा तो मयंक को केवल इतनी सलाह दी कि शरीर के पास खेलो। उस समय उन्होंने कुछ गेंदें शरीर से दूर होकर खेली थी। ऐसे में वे बीट हो गए थे। इसके अलावा पारी के दौरान वे खुद इतनी अच्छी बल्लेबाजी कर रहे थे कि मुझे ज्यादा कुछ कहने की जरूरत ही नहीं पड़ी।

बता दें कि मयंक ने जहां विशाखापट्टनम में हुए पहले टेस्ट की पहली पारी में दोहरा शतक जमाया था। उन्होंने अपने पहले शतक को दोहरे शतक में बदलते हुए 215 रन बनाए थे। वहीं पुणे में खेले जा रहे दूसरे टेस्ट की पहली पारी में भी वे 108 रनों की शानदार पारी खेलकर आउट हुए। पुजारा ने भी इस टेस्ट में 58 रन बनाए। दोनों ने दूसरे विकेट लिए 138 रनों की साझेदारी की।