नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के प्रशासनिक प्रबंधक सुनील सुब्रमण्यम को वेस्टइंडीज में भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों से कथित रूप से अभद्रता के चलते बीसीसीआई से फटकार लगना तय है।

इस घटनाक्रम के चलते वेस्टइंडीज दौरे के बाद सुब्रमण्यम के अनुबंध के नवीनीकरण की उम्मीदें भी खत्म हो गई है। सुब्रमण्यम को भी 45 दिन का एक्सटेंशन मिला था। बीसीसीआई के सूत्रों ने बताया कि सरकार के निर्देशों के अनुसार टीम इंडिया को जल संवर्धन के लिए एक विज्ञापन शूट करना था। बीसीसीआई ने इस बारे में वेस्टइंडीज स्थित दोनों उच्चायोग को सूचित किया था कि उन्हें इस मामले में सुब्रमण्यम से संपर्क करना होगा।

जब त्रिनिदाद एवं टोबेगो के सीनियर अधिकारी ने मदद के लिए सुब्रमण्यम से संपर्क किया तो उन्होंने कहा- 'मुझे इतने मैसेज मत करो।' वह अधिकारी सरकारी निर्देशों का पालन कर रहा था लेकिन बीसीसीआई को पता चला कि सुब्रमण्यम ने उसके फोन उठाना ही बंद कर दिया। उच्चायोग के अधिकारियों ने यह बात दिल्ली पहुंचाई जिसके बाद मामला प्रशासकों की समिति तक पहुंचा। इसके बाद बीसीसीआई के सीईओ राहुल जौहरी ने मध्यस्थता कर मामले को ठीक किया। वैसे इतना तय है कि इस मामले में बीसीसीआई अपने प्रशासनिक मैनेजर सुब्रमण्यम को जमकर फटकारेगा।