कोलकाता। बांग्लादेश की शुक्रवार को भारत के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच में पहली पारी तो सस्ते में सिमट गई लेकिन इस दौरान बांग्लादेश ने इतिहास रच दिया। ऐतिहासिक डे-नाइट टेस्ट मैच के पहले दिन बांग्लादेश की पहली पारी मात्र 106 रनों पर सिमटी, लेकिन उसके दो खिलाड़ियों को सिर पर चोट लगी और एक मैच में दो कन्कशन सब्स्टीट्यूट लेने वाली वह पहली इंटरनेशनल टीम बन गई।

बांग्लादेश के लिटन दास और नईम हसन को भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी की गेंद हेलमेट पर लगी और उन्हें मैदान से बाहर जाना पड़ा। ये दोनों चोट के कारण मैच से बाहर हुए और इनकी जगह क्रमश: मेहदी हसन और ताइजुल इस्लाम को टीम में शामिल किया गया।

मेहदी और ताइजुल को मिला मौका :

बांग्लादेश के लिटन दास जब 15 रनों पर खेल रहे थे तब मोहम्मद शमी की बाउंसर उनके हेलमेट पर लगी लेकिन उन्होंने बल्लेबाजी करना जारी रखा। वे जब 24 रनों पर पहुंचे तब उन्हें चक्कर आने लगे और वे रिटायर होकर पैवेलियन लौट गए। वे इसके बाद मैच से बाहर हो गए और उनकी जगह मेहदी हसन बल्लेबाजी करने उतरे, वे 8 रन बनाने के बाद ईशांत के शिकार बने। लिटन को स्कैन के लिए हॉस्पिटल ले जाया गया। इसी बीच शमी की गेंद बांग्लादेशी बल्लेबाज नईम हसन के हेलमेट पर लगी और भारतीय कप्तान विराट कोहली ने खेल भावना दिखाते हुए अपनी टीम के फिजियो नितिन पटेल को मैदान पर बुलाया। नईम भी मैच से हट गए और उनकी जगह ताइजुल इस्लाम को शामिल किया गया।

अगस्त में लागू हुआ कन्कशन सब्स्टीट्यूट नियम :

आईसीसी ने अगस्त में ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच हुई एशेज सीरीज से सिर पर लगने वाली चोट के लिए कन्कशन सब्स्टीट्यूट नियम को लागू किया था। मार्नस लाबुशाने इस नियम के तहत बल्लेबाजी करने वाले पहले खिलाड़ी थे जब उन्होंने लॉर्ड्स टेस्ट में चोटिल स्टीव स्मिथ की जगह बल्लेबाजी की थी।

Posted By: Kiran Waikar