कोलकाता। India vs Bangladesh Day-Night Test: भारत के पूर्व कप्तान और BCCI के नवनियुक्त अध्यक्ष सौरव गांगुली देश में होने वाले पहले डे-नाइट टेस्ट को खास बनाने का कोई मौका नहीं जाने देना चाहते हैं। बता दें कि भारत और बांग्लादेश के बीच कोलकाता के ईडन गार्डंस ने टेस्ट सीरीज का दूसरा टेस्ट 22 से 26 नवंबर तक खेला जाएगा जो डे-नाइट टेस्ट मैच होगा। इतना ही नहीं इस टेस्ट के दौरान पैराशूट के जरिए स्कायडाइवर्स भी ट्रॉफी लेकर मैदान में उतरेंगे।

ये दोनों टीमों का पहला डे-नाइट टेस्ट होगा। साथ ही भारत में खेला जाने वाला पहला डे-नाइट टेस्ट भी होगा। इसलिए गांगुली व्यक्तिगत रूचि लेकर इसे यादगार बनाना चाहते हैं। गांगुली ने इस टेस्ट के लिए दुनियाभर के खेल के सितारों को आमंत्रित किया है। BCCI की ओर से सचिन तेंडुलकर, ओलिंपिक चैंपियन अभिनव बिंद्रा, टेनिस स्टार सानिया मिर्जा, वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियन पीवी सिंधू और एमसी मेरी कॉम सहित कई स्टार खिलाड़ी इस टेस्ट को देखने के लिए आएंगे। लेकिन गांगुली ने खासतौर से शतरंज के वर्ल्ड चैंपियन मैग्नस कार्लसन और पूर्व वर्ल्ड चैंपियन विश्वनाथन आनंद को बुलाया है। गांगुली चाहते हैं कि कार्लसन और आनंद इस ऐतिहासिक डे-नाइट टेस्ट में ईडन गार्डेंस पर खेल शुरू होने का संकेत देने वाली घंटी बजाएं। इन तमाम खेल हस्तियों के बीच बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना भी ईडन गार्डंस में मौजूद रहेंगी।

आनंत और कार्लसन खेलेंगे कोलकाता में

बता दें कि उसी समय कोलकाता में टाटा स्टील शतरंज इंडिया-रेपिड एंड ब्लिट्ज 2019 चैंपियनशिप भी खेली जा रही है और शतरंज के ये दिग्गज खिलाड़ी उसी में खेलने यहां आएंगे। बंगाल क्रिकेट संघ के अनुसार आनंद उनके आमंत्रण को पहले ही स्वीकार कर चुके हैं। अब उन्हें कार्लसन की स्वीकृति का इंतजार है। हालांकि आयोजक को इन दोनों खिलाड़ियों के मैच के शुभारंभ के समय यहां पहुंचने का संशय है क्योंकि दोनों टूर्नामेंटों का समय लगभग समान है। टेस्ट मैच एक बजे शुरू होगा जबकि शतरंज टूर्नामेंट जीसीटी कोलकाता सर्किट राष्ट्रीय पुस्तकालय में दो बजे से शुरू होगा। ऐसे में पहले दिन के खेल की शुरुआत बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना ईडन गार्डंस की घंटी बजाकर करेंगी।

जानकारी के मुताबिक बंगाल क्रिकेट संघ भारत और बांग्लादेश के बीच हुए पहले टेस्ट की टीम के खिलाड़ियों को भी सम्मानित करेगा। बता दें कि ये टेस्ट साल 2000 में खेला गया था और इस टेस्ट के साथ गांगुली ने टेस्ट कप्तान के रूप में पदार्पण किया था।

Posted By: Rahul Vavikar