ढाका। India vs Bangladesh: बांग्लादेश के तेज गेंदबाज मुस्ताफिजुर रहमान को भारत के खिलाफ नवंबर में होने वाली टेस्ट सीरीज के लिए फिटनेस साबित करनी होगी। मुस्ताफिजुर को नेशनल क्रिकेट लीग में खेलकर अपनी फिटनेस साबित करनी होगी तभी भारत के खिलाफ सीरीज के लिए उनके नाम पर विचार किया जाएगा। बांग्लादेश को इस दौरे पर 3 टी20 मैच और 2 टेस्ट मैच खेलना हैं।

मुस्ताफिजुर टखने की चोट से उबर नहीं पाए थे और इसके चलते वे नेशनल क्रिकेट लीग के पहले राउंड में नहीं खेल पाए थे। बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड (BCB) पहले ही साफ कर चुका है कि भारत के खिलाफ सीरीज की तैयारी के मद्देनजर खिलाड़ियों को एनसीएल के कम से कम दो मैचों में खेलना जरूरी है। टीम प्रबंधन पिछले कुछ समय से वर्कलोड के मद्देनजर मुस्ताफिजुर का उपयोग संभलकर कर रहा है। चीफ सिलेक्टर मिन्हाजुल अबेडीन ने कहा कि भारत दौरे के लिए मुस्ताफिजुर का चयन यह देखकर किया जाएगा कि वे लंबे फॉर्मेट का दबाव सहन कर पाएंगे या नहीं।

मुस्ताफिजुर के 17 अक्टूबर से होने वाले NCL के दूसरे राउंड में खेलने की उम्मीद है। ऐसा माना जा रहा है ति वे राजशाही संभाग के खिलाफ खुलना संभाग का प्रतिनिधित्व करेंगे। मिन्हाजुल ने कहा, फिजियो ने हमें कुछ दिशा-निर्देश दिए हैं। मुस्ताफिजुर के पहले मैच में खेलने की उम्मीद थी लेकिन वे फिटनेस समस्या के चलते ऐसा नहीं कर पाए थे। टखने की चोट की वजह से वे पूरी ताकत के साथ गेंदबाजी नहीं कर सकते थे। वे अभी चोट से उबर रहे हैं। हमें यह समीक्षा करनी होगी कि वे कितने ओवर डाल सकते हैं। हमें दिए गए दिशा-निर्देशों के अनुसार वे एक दिन में 15 ओवर गेंदबाजी कर सकते हैं। हम चार दिनी मैचों में इसी आधार पर उनकी फिटनेस का आकलन करेंगे।

उन्होंने कहा, टेस्ट के लिए टीम में मुस्ताफिजुर के चयन का अधिकार पूरी तरह टीम प्रबंधन का रहेगा। यह टीम प्रबंधन का क्षेत्राधिकार रहता है जो फिटनेस ट्रेनर और गेंदबाजी कोच की सलाह पर फैसला करेगा कि क्या वो लगातार मैचों में खेल पाएंगे और कितने ओवर गेंदबाजी कर पाएंगे। उन्होंने तेज गेंदबाजों की फिटनेस पर चिंता जताई क्योंकि तस्कीन अहमद और मोहम्मद सैफुद्दीन चोट से उबर रहे हैं।

Posted By: Kiran Waikar