पुणे। पुणे टेस्ट में भारत ने द. अफ्रीका को पारी और 137 रनों से हरा दिया। दक्षिण अफ्रीका ने पहली पारी में 326 रनों से पिछड़ने के बाद फॉलोऑन में खेलते हुए चौथे दिन दूसरी पारी में महज 189 रन बनाए। दूसरी पारी में उमेश यादव ने 3 विकेट लिए। वहीं आर. अश्वीन को दो तो ईशांत शर्मा और मोहम्मद शमी को एक-एक सफलता मिली। पहली पारी में नाबाद 254 रन की पारी खेलने वाले कप्तान विराट कोहली को मैन ऑफ द मैच चुना गया।

इससे पहले भारत के पहली पारी 5 विकेट पर 601 रन बनाकर पारी घोषित के जवाब में दक्षिण अफ्रीका की पहली पारी 275 रनों पर सिमटी थी और भारत को पहली पारी में 326 रनों की बढ़त मिली थी। इसके बाद भारतीय कप्तान विराट ने मेहमान टोीम को फॉलोऑन दिया। यह पहला मौका है जब भारत ने द. अफ्रीकी टीम को फॉलोऑन दिया था।

द. अफ्रीका की दूसरी पारी में शुरुआत खराब रही जब ईशांत शर्मा ने पारी की दूसरी ही गेंद पर ऐडन मार्करैम को एलबीडब्ल्यू किया। मार्करैम ने रिव्यू नहीं लिया अन्यथा वे नॉटआउट रहते। अभी द, अफ्रीका इस सदमे से उबरा भी नहीं था कि विकेटकीपर रिद्धिमान साहा ने उमेश यादव की गेंद पर थियूनिस डी ब्रूएन (8) का शानदार कैच लपका। दक्षिण अफ्रीका की उम्मीदें अब कप्तान फॉफ डु प्लेसिस पर टिक गई थी लेकिन वे 5 रन बनाकर रविचंद्रन अश्विन के शिकार बने, जब विकेटकीपर साहा ने चौथे प्रयास में उनका कैच लपका। साहा उनके कैच को लपक नहीं पाए थे और गेंद उनके हाथ से छिटककर सामने की तरफ उछली लेकिन साहा ने डाइव लगाकर उनका कैच पकड़ा। लंच के ठीक पहले अश्विन ने भारत को एक और महत्वपूर्ण सफलता दिलाई जब उन्होंने एल्गर को मिड ऑफ पर उमेश यादव के हाथों झिलवाया। एल्गर ने 8 चौकों की मदद से 48 रन बनाए और यादव ने उनका कैच तीसरे प्रयास में लपका। लंच के बाद दूसरे ही ओवर में रवींद्र जडेजा ने द. अफ्रीका को करारा झटका दिया जब उन्होंने क्विंटन डी कॉक को बोल्ड किया। डी कॉक ने 5 रन बनाए और मेहमान टीम 79 रनों पर पांचवां विकेट खोकर गहरे संकट में घिर गई।

ऐसी रही द. अफ्रीका की पहली पारी :

दक्षिण अफ्रीकी की पहली पारी की शुरुआत खराब रही थी जब उसने 53 रनों पर 5 विकेट खो दिए थे, उस समय लग रहा था कि पारी जल्दी सिमट जाएगी लेकिन प्लेसिस (64) और डी कॉक (31) ने छठे विकेट के लिए 75 रन जोड़े। इसके बाद टीम ने एक समय 162 रनों पर 8 विकेट गंवा दिए थे लेकिन महाराज (72) और फिलेंडर (44 नाबाद) ने नौवें विकेट के लिए शतकीय (109) भागीदारी कर स्कोर को 250 के उपर पहुंचाया। 29 वर्षीय महाराज ने 132 गेंदों का सामना कर 12 चौकों की मदद से 72 रनों की शानदार पारी खेली, जो उनके टेस्ट करियर का सर्वाधिक स्कोर है। उन्हें फिलेंडर से अच्छा साथ मिला जिन्होंने संयमपूर्वक 192 गेंदों का सामना कर नाबाद 44 रन बनाए। पहले टेस्ट मैच में भी डेन पिट और सेनुरान मुथुसामी ने उम्दा बल्लेबाजी की थी। रविचंद्रन अश्विन सबसे सफल गेंदबाज रहे और उन्होंने 69 रनों पर 4 विकेट लिए। उमेश यादव ने 3 और मोहम्मद शमी ने 2 विकेट लिए।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket