पुणे। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने गुरुवार को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच के टॉस के दौरान खुलासा किया कि किस तरह उन पर खिलाड़ियों द्वारा दबाव बनाया गया था। भारत ने इस मुकाबले में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया।

विराट ने टॉस के दौरान मजाकिया लहजे में खुलासा किया कि टीम के साथियों ने उन पर टॉस जीतने का दबाव डाला था। उन्होंने कहा, एमसीए स्टेडियम की पिच सख्त है और इस पर गेंद रिवर्स स्विंग भी होगी, इसके चलते हमने हनुमा विहारी की जगह उमेश यादव को प्लेइंग इलेवन में शामिल किया। हमारी बल्लेबाजी में काफी गहराई है और आठवें क्रम तक हमारे पास अच्छे बल्लेबाज है इसलिए बैटिंग हमारे लिए चिंता का विषय नहीं है। रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा की उपस्थिति की वजह से हमें स्पिन गेंदबाजी में किसी और की आवश्यकता नहीं है। ईशांत शर्मा और मोहम्मद शमी पूरी दमदारी के साथ गेंदबाजी कर रहे हैं, इसके चलते उनकी मदद के लिए हमने उमेश यादव को प्लेइंग इलेवन में शामिल किया।

विराट ने कहा, यह पिच सख्त नजर आ रही है और इस पर दूसरे और तीसरे दिन से गेंट टर्न होना शुरू होगी। इस पिच पर पहले दो दिन बल्लेबाजी के लिहाज से अच्छे रहेंगे और हम इसका फायदा उठाकर बड़ा स्कोर बनाना चाहेंगे।

विराट कोहली के लिए यह टेस्ट मैच यादगार बन गया क्योंकि भारत के टेस्ट कप्तान के रूप में यह उनका 50वां मैच है। वे महेंद्रसिंह धोनी के बाद यह उपलब्धि हासिल करने वाले दूसरे भारतीय कप्तान बन गए। उन्होंने सौरव गांगुली को पीछे छोड़ा। धोनी ने 60 टेस्ट मैचों में भारत का नेतृत्व किया था। कोहली के नेतृत्व में भारत ने 29 टेस्ट मैचों में जीत दर्ज की है और वे भारत के सबसे सफल कप्तान हैं। धोनी 27 टेस्ट जीत के साथ इस मामले में दूसरे क्रम पर है।