पुणे। भारत ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ यहां खेले जा रहे दूसरे टेस्ट पर अपनी पकड़ मजबूत कर ली है। भारत के पहली पारी के 5 विकेट पर 601 रनों के जवाब में दक्षिण अफ्रीका की पहली पारी 275 रनों पर समाप्त हुई। इस तरह भारत को पहली पारी के आधार पर 326 रनों की विशाल बढ़त मिली है। दक्षिण अफ्रीकी पारी की समाप्ति के साथ ही तीसरे दिन का खेल समाप्त हो गया। भारतीय कप्तान विराट कोहली दक्षिण अफ्रीका को फॉलोऑन के लिए बुलाते हैं या खुद दूसरी पारी में बल्लेबाजी के लिए आते हैं, इसका फैसला रविवार सुबह ही होगा।

बता दें कि अंतिम सत्र में दक्षिण अफ्रीका के लिए केशव महाराज और वर्नोन फिलेंडर ने अच्छा संघर्ष किया। दोनों ने 9वें विकेट के लिए 109 रनों की साझेदारी कर दक्षिण अफ्रीका को शर्मनाक स्थिति से बचाने की पूरी कोशिश की। फिलेंडर ने जहां 44 रनों की पारी खेली, वहीं केशव महाराज ने 72 रनों की जबर्दस्त पारी खेली। दक्षिण अफ्रीका ने 162 रनों में अपने 8 विकेट खो दिए थे। लेकिन उसके बाद केशव और फिलेंडर ने शतकीय साझेदारी की। अंतिम सत्र में इन दोनों खिलाड़ियों ने भारत को विकेट के लिए तरसा दिया। हालांकि अश्विन ने केशव को रोहित के हाथों कैच कराकर इस साझेदारी को तोड़ा। इसके बाद रबाडा को अश्विन ने एलबीडब्ल्यू आउट किया।भारत के लिए अश्विन ने सबसे ज्यादा 4 विकेट लिए, जबकि उमेश यादव ने 3, शमी ने 2 और जडेजा ने 1 विकेट लिया।

इससे पहले खेल के दूसरे सत्र में दक्षिण अफ्रीका ने कप्तान फॉफ डु प्लेसिस (64) और सेनुरान मुथुसामी (7) के विकेट खोए। मुथुसामी को जडेजा ने एलबीडब्ल्यू कर पैवेलियन भेजा। जबकि अश्विन ने डु प्लेसिस का बड़ा विकेट झटका। प्लेसिस ने 117 गेंदों का सामना करते हुए 9 चौकों और 1 छक्के की मदद से 64 रन बनाए। इससे पहले भारत ने विराट कोहली के नाबाद दोहरे शतक (254) की मदद से पहली पारी 5 विकेट पर 601 रन बनाकर घोषित की थी।

Lunch on Day 3 of the 2nd Test. #TeamIndia bowlers pick three wickets in the 1st session.

South Africa 136/6, trail India 601/5d by 465 runs. pic.twitter.com/gN5SIi8C1b

— BCCI (@BCCI) October 12, 2019

दक्षिण अफ्रीका ने तीसरे दिन सुबह 36/3 से आगे खेलना शुरू किया लेकिन अभी स्कोर 41 तक ही पहुंचा था कि मोहम्मद शमी की गेंद पर एनरिच नोर्त्जे स्लिप में विराट कोहली के हाथों लपके गए। ऐसी स्थिति में टीम को थियूनिस डी ब्रूएन से बड़ी पारी की उम्मीद थी लेकिन वे 30 रन बनाकर उमेश यादव के शिकार बने और मेहमान टीम 53 रनों पर 5 विकेट खोकर गहरे संकट में घिर गई है।

इसके बाद कप्तान फॉफ डु प्लेसिस और क्विंटन डी कॉक ने पारी को संभालते हुए विकेटों के इस पतन को रोका। दोनों ने छठे विकेट के लिए 75 रनों की साझेदारी की। डु प्लेसिस का अर्द्धशतक पूरा हुआ, वैसे ही ये जोड़ी टूट गई। अश्विन ने डी कॉक को बोल्ड कर इस साझेदारी को तोड़ दिया और लंच के पहले भारत को महत्वपूर्ण सफलता दिलाई। डी कॉक ने 48 गेंदों में 7 चौकों की मदद से 31 रन बनाए।

ऐसी खराब शुरुआत हुई द. अफ्रीका की पहली पारी की

भारत के पहली पारी के विशाल स्कोर के सामने द. अफ्रीका की पहली पारी की शुरुआत बेहद खराब रही थी जब उमेश यादव ने अपने टीम में वापसी के स्पेल की दूसरी ही गेंद पर एडन मार्करैम को एलबीडब्ल्यू कर दिया। वे खाता भी नहीं खोल पाए। अभी मेहमान टीम इस सदमे से उबरी भी नहीं थी कि उमेश की गेंद को डीन एल्गर स्टंप्स पर खेल बैठे और मेहमानों ने 13 रनों पर दूसरा विकेट खो दिया। तेंबा बावुमा एक बार फिर असफल रहे और 8 रन बनाकर मोहम्मद शमी की गेंद पर विकेटकीपर रिद्धिमान साहा को कैच थमा बैठे। उमेश ने 2 और शमी ने 1 विकेट लिया।

Posted By: Neeraj Vyas

fantasy cricket
fantasy cricket