मल्टीमीडिया डेस्क। क्रिकेट वर्ल्ड कप फाइनल में मेजबान इंग्लैंड को बाउंड्री काउंट नियम के आधार पर न्यूजीलैंड पर मिली जीत के बाद से यह विवादास्पद नियम बहुत चर्चा में है। ऐसा नहीं है कि मैच के विजेता का फैसला करने का यह नियम नया है लेकिन इतना रोमांचक और करीबी मैच सालों में एकाध ही होता है इसलिए यह नियम उपयोग में कम ही आ पाता है।

बाउंड्री काउंट नियम कई वर्षों से इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में भी लागू है लेकिन इस लीग में अभी तक इसका उपयोग सिर्फ एक बार 2014 में हुआ था। राजस्थान रॉयल्स और कोलकाता नाइटराइडर्स (केकेआर) के बीच खेले इस मैच में राजस्थान के 152/5 के जवाब में केकेआर ने 8 विकेट पर 152 रन बनाए और मैच टाई हुआ। इसके बाद सुपर ओवर में भी दोनों टीमों ने 11-11 रन बनाए थे जिसके बाद मैच का फैसला बाउंड्री काउंट नियम के आधार पर किया गया।

अबुधाबी में हुए इस मैच में राजस्थान ने पहले बल्लेबाजी कर अजिंक्य रहाणे के 72 रनों की मदद से 5 विकेट पर 152 रन बनाए। इसके जवाब में केकेआर 18 ओवरों में 4 विकेट पर 137 रन बनाकर आसानी से जीत की तरफ बढ़ता हुआ दिख रहा था क्योंकि उसे जीत के लिए सिर्फ 16 रन चाहिए थे और उसके 6 विकेट बचे थे। लेकिन जेम्स फॉकनर द्वारा डाले गए पारी के 19वें ओवर ने मैच की दिशा बदल ली। उन्होंने इस ओवर में मात्र 4 रन दिए और 3 विकेट झटके। उन्होंने ओवर की पहली गेंद पर सूर्यकुमार यादव (31) को स्टीव स्मिथ के हाथों झिलवाया। उन्होंने इसके बाद रॉबिन उथप्पा और आर विनय कुमार के विकेट लिए। केन रिचर्डसन ने अंतिम ओवर में 11 रन दिए और केकेआर ने 8 विकेट पर 152 रन बनाते हुए मैच टाई करवा लिया।

ऐसा रहा सुपर ओवर

केकेआर की तरफ से बैटिंग के लिए सूर्यकुमार यादव और शाकिब अल हसन क्रीज पर उतरे। जेम्स फॉकनर की पहली गेंद पर दूसरा रन लेते हुए यादव रन आउट हुए। मनीष पांडे क्रीज पर उतरे और उन्होंने पहली गेंद पर 1 रन लिया। शाकिब ने तीसरी गेंद पर स्ट्रेट ड्राइव लगाया लेकिन फॉकनर के जूतों से गेंद टकरा गई और सिर्फ 1 रन मिला। मनीष पांडे ने चौथी गेंद पर छक्का लगाया। फॉकनर की अगली गेंद पर पांडे ने 1 रन लिया। शाकिब अंतिम गेंद पर दूसरा रन चुराने के प्रयास में रन आउट हुए। इस तरह केकेआर ने 11 रन बनाए।

राजस्थान की तरफ से स्मिथ और शेन वॉटसन क्रीज पर उतरे। वॉटसन ने सुनील नरेन की पहली गेंद पर 1 रन लिया तो स्मिथ ने दूसरी गेंद पर 2 रन बनाए। स्मिथ ने तीसरी गेंद पर 1 रन बनाया। वॉटसन ने चौथी गेंद पर मिडविकेट पर चौका लगाया। वॉटसन ने पांचवीं गेंद पर 1 रन बनाया। अब राजस्थान को जीत के लिए अंतिम गेंद पर 3 रन चाहिए थे, इसके चलते केकेआर ने फील्डिंग फैला दी। हर कोई यह मानकर चल रहा था कि तीन रन बनाना कठिन है इसलिए स्मिथ चौका या छक्का लगाने का प्रयास करेंगे लेकिन स्थिम समझदार थे, वे जानते थे कि दो रन बनाकर भी उनकी टीम जीत जाएगी क्योंकि इस स्थिति में सुपर ओवर में स्कोर टाई हो जाएगा और उनकी टीम बाउंड्री काउंट के आधार पर आगे चल रही थी।

स्मिथ ने इस स्थिति का फायदा उठाया और गेंद को एकस्ट्रा कवर की तरफ खेलकर आसानी से दो रन बनाए। अब सुपर ओवर में दोनों टीमों के 11-11 रन हुए और बाउंड्री काउंट (मैच में ज्यादा बाउंड्रीज) के आधार पर राजस्थान ने यह मैच जीत लिया। राजस्थान ने इस मैच में कुल 19 बाउंड्रीज लगाई जबकि केकेआर 15 बाउंड्रीज ही लगा पाया था।