पुल्टान (चीन)। ISSF World Cup Finals: भारतीय निशानेबाजों मनु भाकर, इलावेनिल वेलारिवान और दिव्यांश सिंह पवार ने शानदार प्रदर्शन कर आईएसएसएफ वर्ल्ड कप फाइनल्स में अपने-अपने इवेंट्स के स्वर्ण पदकों पर निशाना साधा। मनु ने महिलाओं की 10 मीटर एयर पिस्टल इवेंट में जूनियर वर्ल्ड रिकॉर्ड के साथ स्वर्ण पदक जीता। इलावेनिल ने महिला 10 मीटर एयर राइफल इवेंट में बाजी मारी। दिव्यांश ने पुरुषों की 10 मीटर एयर राइफल में अव्वल रहते हुए भारत को दिन का तीसरा गोल्ड मेडल दिलाया।

17 वर्षीय मनु ने आईएसएसएफ की इस सत्र समाप्ति वाले टूर्नामेंट के फाइनल में 244.7 अंकों के साथ पहला स्थान हासिल किया। भारत की यशस्विनी सिंह देसवाल छठे स्थान पर रहीं। सर्बिया की जोराना अरुनोविच ने 241.9 अंकों के साथ रजत और चीन की क्वियान वांग ने 221.8 अंकों के साथ कांस्य पदक हासिल किया।

महिला 10 मीटर एयर राइफल फाइनल में इलावेनिल ने 250.8 अंकों के साथ स्वर्ण पदक अपने नाम किया। ताइवान की लिन यिंग शिन ने 250.7 अंकों के साथ रजत पदक जीता जबकि रोमानिया की लॉरा जियार्जिटा कोमान ने 229 अंकों के साथ कांस्य पदक हासिल किया। इलावेनिल ने क्वालीफाइंग दौर में 631.1 अंकों के साथ दूसरे स्थान पर रहते हुए फाइनल में जगह बनाई। वे पात्रता दौर में 632.3 अंकों के साथ पहले स्थान पर रहे थे। भारत की मेहुली घोष ने भी फाइनल में जगह बनाई थी लेकिन वे 163.8 अंकों के साथ छठे स्थान पर रहीं।

पुरुषों के 10 मीटर एयर पिस्टल इवेंट में अभिषेक वर्मा और सौरभ चौधरी ने फाइनल में तो जगह बनाई लेकिन ये दोनों पदक जीतने में नाकाम रहे। वर्मा क्वालीफिकेशन में 588 अंकों के साथ पहले स्थान पर रहे थे लेकिन वे फाइनल में मात्र 179.4 अंक ही बना पाए और पांचवें स्थान पर रहे। चौधरी क्वालीफाइंग दौर में 581 अंकों के साथ सातवें स्थान पर थे, इसके बाद वे फाइनल में 159.8 अंकों के साथ छठे स्थान पर रहे।

पुरुषों की 10 मीटर एयर राइफल इवेंट में दिव्यांश ने स्वर्ण पदक अपने नाम किया। उन्होंने फाइनल में 250.1 अंक हासिल किया। हंगरी के इस्तवान पेनी ने 250 अंकों के साथ रजत पदक जीता जबकि स्लोवाकिया के पार्क जैनी ने 228.4 अंकों के साथ कांस्य पदक अपने नाम किया। इससे पहले क्वालीफाइंग दौर में दिव्यांश 627.1 अंकों के साथ तीसरे स्थान पर रहे थे। बेलारूस के लिलिया चारहेका 627.5 अंकों के साथ पहले और इस्तवान पेनी 627.4 अंकों के साथ दूसरे स्थान पर रहे थे।

Posted By: Kiran Waikar