पुणे। भारतीय क्रिकेट टीम के चीफ कोच रवि शास्त्री ने कहा कि 2019 आईसीसी वर्ल्ड कप के बाद से उनकी सीनियर क्रिकेटर महेंद्रसिंह धोनी से कोई बात नहीं हुई है। कोच ने धोनी के रिटायरमेंट को लेकर भी बड़ा बयान दिया।

धोनी आईसीसी वर्ल्ड कप में न्यूजीलैंड के खिलाफ हुए सेमीफाइनल मैच के बाद से क्रिकेट से दूर है। शास्त्री ने कहा, क्रिकेट वर्ल्ड कप के बाद से धोनी से मेरी कोई बातचीत नहीं हुई है। धोनी भारत के महानतम खिलाड़ियों में से एक हैं। उन्हें टीम इंडिया में कब वापसी करना है इसका फैसला उन्हें खुद करना होगा। इससे पहले उन्हें खेलना शुरू करना होगा फिर देखते है क्या स्थितियां बनती है। मुझे नहीं लगता है कि उन्होंने वर्ल्ड कप के बाद से क्रिकेट खेलना शुरू किया है। उन्हें इस बारे में पहले सिलेक्टर्स से भी बात करनी होगी।

धोनी की अनुपस्थिति में सिलेक्टर्स ने वेस्टइंडीज दौरे पर तीनों फॉर्मेट में युवा विकेटकीपर रिषभ पंत को मौका दिया था। पंत उन मौकों का लाभ उठाने में नाकाम रहे थे और इसके चलते दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ चल रही टेस्ट सीरीज में उन्होंने रिद्धिमान साहा को मौका दिया। धोनी वर्ल्ड कप के बाद से टीम इंडिया की तरफ से खेले नहीं है। उन्होंने इंडियन आर्मी की सेवा करने के लिए क्रिकेट से दो महीने का ब्रेक लिया था और वे वेस्टइंडीज के दौरे पर नहीं गए थे। धोनी ने इसके बाद खुद को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज के लिए भी उपलब्ध नहीं बताया था। पिछले दिनों मीडिया में यह रिपोर्ट आई थी कि धोनी चोट की वजह से मैदान से दूरी बनाए हुए हैं। वे पीठ और उंगली की चोट से जूझ रहे हैं।

धोनी ने अभी तक सीमित ओवरों के क्रिकेट से संन्यास नहीं लिया है और वे अभी भी अगले साल के टी20 वर्ल्ड कप की दावेदारी में बने हुए हैं। वैसे बीसीसीआई सिलेक्टर अब पीछे मुड़कर देखने के मूड में नहीं है। यदि पंत फॉर्म में नहीं लौटे और सिलेक्टर्स को कोई उपयुक्त विकल्प नहीं मिला तो धोनी होड़ में बने रहेंगे।